यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने नए संगठनात्मक ढांचे की घोषणा किया
June 13, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 13 जून 2020, नई दिल्ली। 1 अप्रैल, 2020 को यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में आंध्रा बैंक और कॉर्पोरेशन बैंक के समामेलन के बाद यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया का दायरा बढ़कर 9500+ शाखाओं और 13,500+ एटीएम के अखिल-भारतीय नेटवर्क तक हो गया है। समामेलन के बाद यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया अब भारत का पांचवां सबसे बड़ा सार्वजनिक क्षेत्र का बैंक और चौथा सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क बन गया है, जिसकी देश के हर राज्य में कम से कम एक शाखा है।
इस सफल समामेलन की पृष्ठभूमि में यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने अपने नए, संयुक्त संगठनात्मक ढांचे की घोषणा की है जिसमें 18 क्षेत्रीय कार्यालय और 125 क्षेत्रीय कार्यालय शामिल रहेंगे। सभी भौगोलिक क्षेत्रों में अपनी पैठ बढ़ाने की रणनीतिक दृष्टि से 4 नए आंचलिक कार्यालय चंडीगढ़, जयपुर, मैंगलोर और विशाखापत्तनम में स्थापित किए गए हैं। दक्षिण भारत में दो नए जोनल कार्यालय खोलने से बैंक इस महत्वपूर्ण क्षेत्र में अपनी उच्च बाजार हिस्सेदारी को मजबूत कर सकेंगे। इसके अलावा, शिमला, अमृतसर, बरेली, मऊ, आदि जगहों पर 32 नए क्षेत्रीय कार्यालय खोले जा रहे हैं। मजबूत अखिल भारतीय उपस्थिति के साथ, बैंक के क्षेत्रीय और आंचलिक कार्यालयों को ग्रोथ इंजन के रूप में उभरने की कल्पना की गई है।


बैंक के 100 साल के इतिहास में इस ऐतिहासिक अवसर को चिह्नित करने के लिए, आज एक वर्चुअल कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस आयोजन में एमडी और सीईओ, कार्यकारी निदेशक, क्षेत्रीय प्रमुख, मुख्य महाप्रबंधक और महाप्रबंधक सहित बैंक के नेतृत्व टीम के सभी प्रमुख सदस्य शामिल हुए। यह समारोह वर्चुअल रिबन काटने की रस्म के साथ शुरू हुआ, जिसके बाद यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के एमडी और सीईओ श्री राजकिरण राय जी का संबोधन हुआ। अपने संबोधन में श्री राय ने नए संगठनात्मक ढांचे की दृष्टि पर विस्तार से बताया, “समामेलन के बाद हमारे पदचिह्न में वृद्धि के साथ, एक रणनीतिक पुनर्गठन आगे के अवसरों का लाभ अच्छी तरह से उठाने के लिए आवश्यक है। यह दिमाग में रखते हुए हम एक मजबूत भविष्य में व्यापारिक वृद्धि और ग्राहक सेवा पर फोकस को सुनिश्चित करने के लिए हमारी अखिल भारतीय उपस्थिति को मजबूती दे रहे हैं।
श्री राय के संबोधन के बाद नवनियुक्त जोनल प्रमुखों ने बैंक के प्रति अपनी प्रतिबद्धता प्रदर्शित करने का संकल्प लिया। श्री राय ने इस अवसर का लाभ उठाते हुए आधिकारिक यूनियन बैंक ‘रीजनल हेड्स बुकलेट’ लॉन्च की, जो क्षेत्रीय प्रमुखों की सभी भूमिकाओं और जिम्मेदारियों को व्यापक रूप से कवर करते हुए वन-स्टॉप मैनुअल का काम करेगा। यह बुकलेट ग्राहकों या कर्मचारियों के सामने आने वाले व्यवधानों को कम करने के उद्देश्य से बनाया गया है, जो यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की सर्वोच्च प्राथमिकता है।
सफल लॉन्च इवेंट के साथ ही संगठनात्मक योजना के लिए समग्र रणनीतिक दृष्टिकोण, महत्वपूर्ण विश्वास देता है कि नया संगठनात्कम ढांचा बैंक के व्यवसाय विकास को नई ऊंचाइयों तक ले जाने में सक्षम करेगी। राष्ट्र को सर्वोत्तम श्रेणी के उत्पाद और सेवाएं प्रदान करेगी और सेवा प्रदान करने की अपनी विरासत को जारी रखेगा।