वेंचर कैटेलिस्ट्स ने आईआईटीबी और सुपर30 के एल्युमनी के 7 क्लासेस पर दांव लगाया
October 6, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 6 अक्टूबर 2020, नई दिल्ली। भारत के पहले, सबसे बड़े और अग्रणी इंटीग्रेटेड इनक्यूबेटर और एक्सेलेटर प्लेटफॉर्म वेंचर कैटेलिस्ट्स ने 7 क्लासेस में अघोषित राशि का निवेश किया है। 7 क्लासेस विश्व का पहला कॉन्फिडेंस डायग्नोसिस-बेस्ड ई-लर्निंग प्लेटफॉर्म है जिसका दुनिया के 1.3 बिलियन युवा दिमागों के लिए अनूठी और आउट-ऑफ-बॉक्स अप्रौच है। शुरुआत में इसका फोकस  भारत, दुबई और अमेरिका में कक्षा 9 वीं से 12 वीं के छात्रों पर रहेगा।  आईआईटी-बी, एनआईटी और सुपर 30 के पूर्व छात्रों अनूप राज (आईआईटीबी के पूर्व छात्र, पीएसटेककेयर के पूर्व सीटीओ जिसे के. गणेश के पोर्टियो ने अधिग्रहित किया और सुपर-30 फेम आनंद कुमार के पूर्व छात्र), अरुण कुमार गुप्ता, रंजन कुमार सोनी (एनआईटी जेएसआर) के पूर्व छात्र) और अरविंद पटेल (आईआईटीबी के पूर्व छात्र) की टीम ने 7 क्लासेस की स्थापना की है। यह सतत इनोवेशन के जरिए इनोवेटिव एजुकेशनल फ्रेमवर्क प्रदान करता है, जिसमें कई इनोवेशन शामिल है। एक बैच में सिर्फ 7 स्टूडेंट्स होंगे। टीचर की ओर से रिवर्स इंटरेक्शन, टीचिंग के लिए 2 टीचर मॉडल,  कॉन्फिडेंस डायग्नोसिस ड्रिवन लर्निंग आदि पर इसका फोकस रहेगा। इस सिस्टम को छात्रों की भीड़-भाड़ वाली क्लासेस और छात्रों के कम आत्मविश्वास के मुद्दों को हल करने के लिए डिज़ाइन किया गया।


फंड जुटाने पर अनूप राज ने कहा, “हमारा मौजूदा फंड हमें देश के रिमोट क्षेत्रों तक पहुंचने की अनुमति देगा। इस वर्ष हमारा लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि हम भारत और दुबई के बाजार में एक प्रसिद्ध शैक्षिक ब्रांड बनें। फंड का इस्तेमाल 12-15 भाषाओं में कॉन्फिडेंस डायग्नोसिस, टीचर एम्पॉवरमेंट टेक के निर्माण पर खर्च किया जाएगा ताकि यह लगभग हर माता-पिता के लिए उपलब्ध और सुलभ हो सके।
निवेश पर बोलते हुए वेंचर कैटेलिस्ट्स के प्रेसिडेंट और सह-संस्थापक अपूर्व रंजन शर्मा ने कहा हम वास्तव में 7 क्लासेस के कंसेप्ट से प्रभावित हुए।  जिसका उद्देश्य बच्चों की शिक्षा को बाधित करने वाली मूलभूत समस्याओं का समाधान करना है। संस्थापक टीम बहुत ही योग्य और अनुभवी है और जब छात्र किसी भी कठिनाई का सामना करेंगे, तब उन्हें मार्गदर्शन कर सकती है। हमें विश्वास है कि उनके यूनिक लर्निंग मॉडल को भारत, दुबई और अमेरिका में छात्रों और अभिभावकों दोनों से सकारात्मक प्रतिक्रिया मिलेगी।


7 क्लासेस आईआईटी जेईई, इंजीनियरिंग, मेडिकल और ओलंपियाड के छात्रों को सीखने और प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए पूरी तरह से डिजिटाइज़्ड एडटेक प्लेटफॉर्म है। कक्षाएं टू-वे इंटरेक्टिव फॉर्मेट में हैं और टीचर्स इन-हाउस बने मालिकाना हक के मॉडल (2:4:1) को फॉलो करते हैं। यह मॉडल हर छात्र के लिए स्टडी प्लान्स, टीचिंग मॉड्यूल, ह्यूटेगॉजी, टेस्टिंग टूल्स, कॉन्फिडेंस ट्रैकिंग मैकेनिज्म, वन-टू-वन अटेंशन लाता है और यह इनक्लूसिव ग्रोथ ट्रैकिंग सिस्टम बनाता है।