उन्नाव केस पीड़िता के पिता बोले आरोपियों को हैदराबाद की तरह दौड़ा-दौड़ा कर मारा जाए
December 7, 2019 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचारवार शनिवार 07 दिसम्बर 2019 नई दिल्ली। उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता ने शुक्रवार की रात 11.40 बजे सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया। उन्नाव की दुष्कर्म पीड़िता सफदरजंग अस्पताल में जिंदगी के लिए करीब 44 घंटे तक जूझी, लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका। पीड़िता की मौत के बाद उसके पिता का बयान आया है, उन्होंने एक टीवी चैनल से बात करते हुए प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाए। पिता ने योगी सरकार से मांग की है कि बेटी के साथ हैवानियत करने वालों को दौड़ा-दौड़ाकर मारा जाए। 
पीड़िता के पिता ने मांग कि है कि जैसे हैदराबाद में पुलिस ने आरोपियों को मारा, वैसे ही हमारी बेटी से दरिंदगी करने वालों को दौड़ा-दौड़ाकर मौत के घाट उतारा जाना चाहिए, नहीं तो आरोपियों को फांसी पर लटका देना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि आरोपियों को सजा मिलने के बाद ही बेटी की आत्मा को शांति मिल पाएगी। 
मौते से पहले सफदरजंग अस्पताल में भर्ती 90 फीसदी जली उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता ने आरोपियों को सजा देने की गुहार लगाई। गले और श्वास नली में सूजन के कारण ठीक से आवाज नहीं निकल पाने के बावजूद उसने टूटी आवाज और इशारों में कहा, मैं बच तो जाऊंगी ना। मैं मरना नहीं चाहती। उसने पास खड़े भाई से यह भी कहा कि उसके साथ दरिंदगी करने वाला कोई भी बचना नहीं चाहिए।