ठेके खुले हैं तो चाय की दुकान बंद क्यों है? 22 मई को होगा विरोध प्रदर्शन : गंगेश्वर
May 20, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार, बुधवार 20 मई 2020, नोएडा। सी. आई. टी. यू. कार्यालय भंगेल फेस-2 नोएडा पर 19 मई 2020 को सीटू जिला सचिव मंडल की बैठक गंगेश्वर दत्त शर्मा की अध्यक्षता में हुई। बैठक में जिले में अभी तक चलाए गए राहत कार्य पर विस्तृत चर्चा हुई बैठक में रिपोर्ट रखते हुए सीटू जिला महासचिव राम सागर ने कहा कि सीटू कार्यकर्ताओं ने बड़ी मेहनत से कार्य करते हुए हजारों हजार मजदूरों को राशन सामग्री का वितरण कर उन्हें कुछ राहत देने का प्रयास किया गया साथ ही उन्होंने बताया कि सीटू संगठन द्वारा लगातार प्रवासी मजदूरों की समस्याओं को सरकार व जिला प्रशासन के संज्ञान में लाकर हल करवाने का प्रयास किया गया तथा अनेकों मज़दूर बस्तियों इलाकों में प्राधिकरण और जिला प्रशासन के माध्यम से खाने का वितरण कराया जा रहा है तथा कुछ अन्य संस्थाओं/ एनजीओ से भी मदद लेकर राशन सामग्री और खाने का वितरण भी कराया गया है जो क्रम अभी भी जारी है, सीटू ने सभी डोनर्स और सहयोग करने वाले लोगों/ अधिकारियों का तहे दिल से शुक्रिया अदा किया।


उन्होंने बताया कि अभी भी मजदूरों की परेशानियां जारी है अनेकों कारखानों के मालिक मजदूरों को अप्रैल माह का वेतन देने से साफ मना कर रहे हैं तथा प्रदेश सरकार द्वारा श्रम कानूनों में मजदूर विरोधी बदलाव किए जाने से मिल मालिकों के हौसले और बढ़ गए हैं जिससे श्रमिकों का और उत्पीड़न बढ़ेगा जिसका ट्रेड यूनियनें जोरदार तरीके से विरोध कर रही हैं और इसी क्रम में आने वाली 22 मई 2020 को ट्रेड यूनियन के संयुक्त आह्वान पर देशव्यापी विरोध प्रदर्शन करने का ऐलान किया गया है उन्होंने जिले के मजदूरों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए अपने-अपने घरों पर या कार्यस्थल पर विरोध प्रदर्शन करने का आह्वान किया।
सीटू जिला अध्यक्ष गंगेश्वर दत्त शर्मा ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि लॉक डाउन से वैसे तो सभी लोग प्रभावित हुए हैं लेकिन रेहड़ी पटरी फुटपाथ पर कार्य करने वाले दुकानदार बुरी तरह प्रभावित हुए हैं उन्हें कोई भी मदद सरकार/ जिला प्रशासन के स्तर से नहीं मिल पाई है प्रदेश सरकार द्वारा ₹1000 प्रति माह 3 माह तक मदद के रूप में देने की घोषणा की गई उक्त घोषणा अनुसार ही सीटू के कार्यकर्ताओं ने कड़ी मेहनत कर रेहडी पटरी व अन्य असंगठित क्षेत्र में कार्यरत मजदूरों के 5000 से अधिक फार्म भरकर नोएडा अथॉरिटी में जमा कराएंऔर इसी तरह अन्य एसोसियेशनो द्वारा भी फार्म जमा कराए गए लेकिन अफसोस के साथ कहना पड़ रहा है कि उपरोक्त कर्मकारों के खाते में अभी तक पैसा नहीं भेजा गया है साथ ही उन्होंने कहा कि शहर में तमाम दुकान और ठेके आदि तो खोलने की अनुमति दे दी गई है लेकिन रेहडी पटरी दुकानदारों को दुकान नहीं खोलने दी जा रही है यदि कोई दुकानदार दुकान लगाता है तो पुलिस उसे बुरी तरह मारती पीटती है उन्होंने सरकार और प्राधिकरण/ जिला प्रशासन के अधिकारियों से सवाल किया कि जब ठेके खुल सकते हैं? तो चाय की दुकान क्यों नहीं खुल सकती उन्होंने सरकार और जिले के अधिकारियों से अपील किया कि प्राधिकरण में जमा हुए सभी आवेदन कर्ताओं के खाते में तुरंत पैसा ट्रांसफर किया जाए और नई परिस्थितियों और वर्तमान हालात के अनुसार योजना व नीति बनाकर सोशल डिस्टेसिंग का पालन करवाते हुए रेहडी पटरी के दुकानदारों को कार्य करने की छूट दी जाए। तथा बैठक में राहत कार्यों को आगे भी जारी रखने का भी निर्णय लिया गया।