प्लास्टिक के एकल उपयोग के खिलाफ रक्षा मंत्रालय की ओर से व्यापक अभियान
December 6, 2019 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचारवार शुक्रवार 06 दिसम्बर 2019 नई दिल्ली। रक्षा मंत्रालय स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत कल देश भर में 400 से अधिक स्थानों पर बड़े पैमाने पर प्लॉगिंग (जॉगिंग करते समय कचरा उठाने) कार्यक्रम का आयोजन कर रहा है। तीनों सेनाओं, विभिन्न अन्य रक्षा प्रतिष्ठानों ने अलग-अलग स्थानों पर आयोजित होने वाले इन कार्यक्रमों की विस्तृत रूपरेखा तैयार की है। रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह 07 दिसंबर को दोपहर 12.30 बजे दिल्ली छावनी से मुख्य कार्यक्रम का शुभारम्भ करेंगे। इस कार्यक्रम में लगभग 3,000 लोगों के शामिल होकर अपशिष्ट प्लास्टिक को इकट्ठा करने और स्वच्छता से संबंधित अन्य गतिविधियों में भाग लेने की संभावना है।


भारतीय सेना, नौसेना, वायुसेना, भारतीय तटरक्षक (आईसीजी), रक्षा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम, आयुध फैक्ट्री बोर्ड, छावनी बोर्ड, राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी), सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) और अन्य संबद्ध संगठनों ने विशेष प्लॉगिंग कार्यक्रम आयोजित करने के लिए कार्य योजनाएं तैयार की हैं।
इस आयोजन में भाग लेने वाले रक्षा प्रतिष्ठानों की इकाइयों/स्थानों की संख्या इस प्रकार है: सेना सियाचिन से जैसलमेर और भुज से बैरेंगटे (मिजोरम) तक देश भर में 17 स्थानों पर कचरे की सफाई करेगी। इसी तरह, भारतीय नौसेना मुंबई से कारवार (कर्नाटक) और कोलकाता से विशाखापत्तनम तक के 30 स्थानों पर कचरे की सफाई करेगी। भारतीय वायु सेना भी हिंडन से ऊपरी शिलांग (मेघालय) और नागपुर से त्रिवेंद्रम तक 150 स्थानों पर कचरे की सफाई करेगी। तीनों सेवाओं के अलावा, भारतीय तटरक्षक बल ने 47 स्थानों, छावनी बोर्डों ने 62 स्थानों, एनसीसी ने 18 स्थानों, सैनिक स्कूलों ने 31 स्थानों, बीआरओ ने 18 स्थानों, रक्षा लेखा महानियंत्रक (सीजीडीए) ने देश भर के 20 स्थानों, की पहचान की है।
इस व्यापक अभ्यास का उद्देश्य समुदाय के बीच जागरूकता बढ़ाना, प्लास्टिक अपशिष्ट को एकत्र करना और आसपास के वातावरण को स्वच्छ बनाना है। इस आयोजन का नारा है 'प्लास्टिक से रक्षा – स्वच्छता ही सुरक्षा'। देश भर में सभी कार्यक्रमों के दौरान स्वच्छता गान बजाया जाएगा। सामुदायिक जागरूकता कार्यक्रम जैसे कि नुक्कड़ नाटक, वाद-विवाद, प्रश्नोत्तरी, छात्रों के बीच चित्रकला प्रतियोगिताओं आदि का भी आयोजन किया जाएगा।
ये कार्यक्रम पर्यावरण पर प्लास्टिक के दुष्प्रभाव, स्वच्छता के संबंध में व्यवहार में परिवर्तन लाने और कैरी बैग, प्लास्टिक कटलरी, प्लास्टिक की पानी की बोतलों आदि सहित प्लास्टिक के उपयोग को छोड़ने के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए आयोजित किए जाएंगे।
इकाइयों के बीच प्रतिस्पर्धा भी आयोजित की जाएंगी। विजेता का चयन प्लॉगिंग के लिए जुटाए गए प्रतिभागियों की संख्या और एकत्र की गई प्लास्टिक की मात्रा के आधार पर किया जाएगा।
स्वच्छ भारत मिशन प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश भर में शुरू किए गए सरकार के प्रमुख कार्यक्रमों में से एक है। यह मिशन 2014 में महात्मा गांधी की जयंती के अवसर पर 'स्वच्छ भारत' के उनके सपने को साकार करने के लिए प्रारंभ किया गया था।