फिर से ठप हुई HDFC बैंक की नेटबैंकिंग प्रणाली
December 7, 2019 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचारवार शनिवार 07 दिसम्बर 2019 नई दिल्ली। प्राइवेट सेक्टर के सबसे बड़े बैंक एचडीएफसी का नेटबैंकिंग और मोबाइल एप सर्वर शनिवार को एक बार फिर से ठप हो गया। बैंक के वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबिक शनिवार को दोपहर तीन बजे सर्वर ठप हो गया, जिसका असर पूरे देश में देखने को मिल रहा है। आरबीआई द्वारा जांच करने का एलान करने के बाद भी सर्वर के ठप होने का कारण बैंक अधिकारी नहीं समझ पा रहे हैं।  बैंक का मोबाइल एप और नेटबैंकिंग वेबसाइट सबसे पहले दो दिसंबर को ठप रही थी। यह फिर बुधवार को ही शुरू हो पाई, जिसके चलते बैंक के ग्राहक लगातार तीन दिन तक परेशान रहे थे। बुधवार शाम को इसने सही से काम करना शुरू किया था। इसके चलते लोग महीने की शुरुआत पर सैलरी आने के बाद समय पर अपनी ईएमआई, क्रेडिट कार्ड बिल व अन्य जरूरी भुगतान नहीं कर पाए थे। बैंक ने ग्राहकों को हो रही परेशानी को लेकर के सोशल मीडिया पर माफी भी मांगी थी। इसके बाद अब शनिवार को भी बैंक का सर्वर ठप हो गया है। 


बैंक अधिकारियों की माने तो पिछली बार सर्वर ठप होने के दो बड़े कारण हो सकते हैं। पहला बैंक ने सर्वर पर सुरक्षा बढ़ाने के लिए एक नया फायरवॉल लगाया था, जो एक रुपये की ट्रांजेक्शन को भी पूरी तहकीकात करने के बाद ही आगे करने की मंजूरी देता है। इससे सर्वर पर ज्यादा लोड पड़ रहा, जिससे ट्रांजेक्शन पूरा होने में समय लग रहा है। 
दूसरा कारण है फास्टैग की बिक्री।बैंक द्वारा फास्टैग की बिक्री बढ़ाने पर जोर देने के कारण भी सर्वर पर ज्यादा लोड हो गया, जिसके चलते भी एप और नेटबैंकिंग साइट ठप हो गई थी। 
भारतीय रिजर्व बैंक ने एक कमेटी का गठन करके जांच शुरू कर दी है। यह कमेटी उन कारणों का पता लगाएगी, जिसके कारण मोबाइल बैंकिंग एप के साथ ही नेट बैंकिंग सेवा 72 घंटे तक बाधित रही। आरबीआई के डिप्टी गवर्नर एम के जैन मौद्रिक समीक्षा नीति जारी करने के बाद पूछे गए एक सवाल पर कहा कि केंद्रीय बैंक को इस बारे में जानकारी है।
केंद्रीय बैंक की टीम इस बारे में पता लगाकर एचडीएफसी बैंक को समुचित दिशा-निर्देश बाद में जारी करेगी।  अगर आरबीआई की टीम को लगा कि इस पर एचडीएफसी बैंक पर किसी तरह का जुर्माना लगना चाहिए तो वो भी किया जाएगा, ताकि भविष्य में इस तरह की दिक्कत ग्राहकों को न आए।