फाइन आर्टस एसोएिसशन ने अपनी मांगों को लेकर की डिप्टी सीएम से मुलाकात किया 
February 28, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार शुक्रवार 28 फरवरी 2020 चंडीगढ़। फाईन आर्ट एसोसिएशन ने वीरवार को अपनी  मांगों को लेकर उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला से चंडीगढ़ स्थित पार्टी प्रदेश कार्यालय में मुलाकात की और अपनी मांगो को लेकर डिप्टी सीएम को ज्ञापन सौंपा। एसोसिएशन ने पीजीटी फाईन आर्टस शिक्षक के खाली रहे पदों पर एचटेट की छूट प्रदान कर नियुक्ति की मांग की है। उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने एसोसिएशन के सदस्यों को उनकी मांगों पर गंभीरता से विचार करने का आश्वासन दिया। प्रतिनिधिमंडल में दिग्विजय जाखड़, बबीता मलिक, मोनिका रानी, स्वागतराम शर्मा, सुनीता देवी, राजेश, पूनम, नेहा, राजकुमार, सुनील, जितेंद्र रूचिका शामिल थे।


एसोसिएशन के प्रधान दिग्विजय सिंह जाखड़, बबीता मलिक व मोनिका रानी ने बताया कि वर्ष 2015 में फाईन आर्टस के 715 पदों के लिए विज्ञापन निकाला था। आवेदकों में 360 उम्मीदवारों ने स्क्रीनिंग टेस्ट पास किया और उनका साक्षात्कार भी लिया गया। इन उम्मीदवारों ने एचटेट की परीक्षा पास नहीं की थी। इस भर्ती के लिए एसोएिशन ने एचटेट में छूट देने की मांग की है। ज्ञापन में कहा गया है कि स्क्रीनिंग पास कर साक्षात्कार देने वाले अधिकांश उम्मीदवार ओवरऐज हो गए हैं और भविष्य में वे शिक्षक के पदों के लिए आवेदन नहीं कर पाएंगे।
बबीता मलिक ने बताया कि अधिकांश नौकरी के लिए उम्र पार करने के बाद सैंकड़ों परिवारों पर रोजी-रोटी का संकट मंडरा रहा है। उन्होंने बताया कि साक्षात्कार से पूर्व उम्मीदवारों को एचटेट व बीएड में छूट प्रदान की गई थी परन्तु तात्कालिक भर्ती में ऐसे उम्मीदवारों का चयन कर लिया गया जिन्होंने बीएड की परीक्षा पास नहीं की है। उन्होंने बताया कि आज भी सैंकड़ों पद पीजीटी फाइन आटर््स शिक्षकों के पद खाली पड़े हैं।
एसोएिसशन के सदस्यों का कहना है कि पीजीटी फाइन आर्टस के पद विज्ञापित होने से पूर्व इस विषय को पहले नहीं पढ़ाया जाता था इसलिए वे बतौर फाइन आर्टस शिक्षक अनुभव भी नहीं प्राप्त कर पाए। पदाधिकारियों का कहना है कि आज भी फाइन आर्ट्स शिक्षकों के सैंकड़ों पद खाली पड़े हैं। एसोएिसन ने डिप्टी सीएम को सौंपे ज्ञापन के माध्यम से मांग की है कि 2015 में विज्ञापित भर्ती में फाइन आर्ट्स पीजीटी शिक्षक पदों की भर्ती के लिए एचटेट में छूट प्रदान कर उनकी नियुक्ति की जाए जिन्होंने स्क्रीनिंग टेस्ट पास कर साक्षात्कार दिया था। उन्होंने कहा कि 715 विज्ञापित पदों पर केवल 115 उम्मीवादों ने ज्वाइनिंग की थी और आज भी सैंकड़ों पद खाली पड़े हैं।