ऑप्टम ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई के लिए रु 11 करोड़ के योगदान की शपथ ली
August 14, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 14 अगस्त 2020,  गुरूग्राम।  युनाईटेड हेल्थ ग्रुप के एक भाग, ऑप्टम ने भारत में कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई के लिए रु 11,45,68,775 के योगदान की प्रतिबद्धता जाहिर की है। युनाईटेड हेल्थ ग्रुप के संचालन वाले देशों में 10 मिलियन डॉलर के कोविड-19 फंड के तहत यह प्रतिबद्धता की गई है। इस धनराशि का इस्तेमाल सबसे ज्यादा प्रभावित समुदायों जैसे स्वास्थ्यकर्मियों, सेवाओं से वंचित नागरिकोंवरिष्ठ नागरिकों, बेघर लोगों, भोजन की कमी से जूझ रहे लोगों तथा सरकारी प्रयोगशालाओं के लिए जाएगा जहां जरूरी उपकरणों की कमी है।
कोविड-19 सार्वजनिक स्वास्थ्य आपदा के चलते देश के फ्रंटलाईन सामना करना पड़ रहा है, साथ ही संवेदनशील नागरिक भी आय की वर्ग की मदद करना चाहते हैं।" रितेश तालपत्रा, मैनेजिंग डायरेक्टरकहार 11 करोड़ की राशि में से ऑप्टम का योगदान प्रवासी मजदूरों सहित प्रभावित नागरिकों को सहयोग प्रदान करने के लिए पीएम केयर्स फंड में रु 4,65,18,775 • क्षेत्र के सबसे गरीब वर्ग की मदद के लिए तेलंगाना सरकार के मुख्यमंत्री राहत कोष में रु 2,30,00,000 कोविड-19 महामारी से बरी तरह प्रभावित नागरिकों के सहयोग के लिए हरियाणा सरकार के हरियाणा कोरोना राहत कोष में रु 2,30,00,000 • कोविड-19 के निदान हेतु सरकारी प्रयोगशालाओं में जरूरी उपकरणों की आपूर्ति द्वारा इनकी क्षमता बढ़ाने के लिए फाउन्डेशन फॉर इनोवेटिव न्यू डायग्नॉस्टिक्स (FIND) इंडिया के लिए रु 2,20,50,000 हमें उम्मीद है कि पीएम केयर्स फंड, तेलंगाना सरकार के मुख्यमंत्री राहत कोष और हरियाणा सरकार के हरियाणा कोरोना राहत कोष तथा फाउन्डेशन फॉर इनोवेटिव न्यू डायग्नॉस्टिक्स (FIND) इंडिया के प्रति हमारा यह योगदान जरूरतमंदों के लिए मददगार साबित होगा।” निशिद सचदेवा, वाईस प्रेजीडेन्ट ऑपरेशन्स एण्ड कंट्री लीड- ऑप्टम ग्लोबल सोल्यूशन्स (इंडिया) ने कहा फाउन्डेशन फॉर इनोवेटिव न्यू डायग्नॉस्टिक्स (FIND) कोविड-19 के लिए देश की प्रतिक्रिया प्रणाली को मजबूत बनाकर देश के लैबोरेटरी डायग्नॉस्टिक नेटवर्क को सशक्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध है।" डॉ संजय सरीन, कंट्री हैड, द फाउन्डेशन फॉर इनोवेटिव न्यू डायग्नॉस्टिक्स इंडिया ने कहा। "हम ऑप्टम के प्रति आभारी हैं जिन्होंने बीमारी को रोकने तथा प्रयोगशालाओं की क्षमता बढ़ाने के लिए यह उल्लेखनीय योगदान दिया है।