नक्सली ईसाई आतंकवादियों ने अपने अड्डों को चर्च का रूप दिया : स्वामी ओम
December 4, 2019 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार बुधवार 04 दिसम्बर 2019 नई दिल्ली। ईसाईयों के गुरू पोप फ्रांसिस, सी आई ए, और सर्वोच्च न्यायालय के जज शरद अरविन्द बोबड़े और धन्नजय चन्द्रचूड़ पुतला भी जलाया। धर्म रक्षक श्री दारा सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री मुकेश जैन के नेतृत्व में इवैंजिकल क्रिश्चियन चर्च, उत्सव बिहार कराला पर प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन कारियों को सम्बोधित करते हुए दारा सेना के महामंत्री स्वामी ओम जी ने कहा कि इवैंजिकल क्रिश्चियन चर्च व अन्य चर्चो द्वारा बड़ी संख्या में हिंदुओं को बहला फुसला कर मार-पीट कर धमका कर ईसाई बनाया जा रहा है। जिसमें विदेशी अनुदान का भी इस्तेमाल किया जा रहा हैं जबकि विदेशी अनुदान नियमन अधिनियम के तहत आतंकवादी गतिविधियों और धर्मान्तरण करने के लिये विदेशी घन का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता।


स्वामी ओम जी ने खुलासा किया कि आज देश के जितने भी जहां भी जितना भी नक्सली ईसाई आतंकवाद है उसके पीछे सीआईए और उसकी फंडिंग है और उसके वें आतंकवादी अड़डे है, जिनको सी आई ए ने चर्च का नकली रूप दे रखा है। जहां पर पहले भोले-भाले आदिवासियों को ईसाई बनाया जाता है फिर उनके हाथों में जबरन हथियार पकड़ा कर उन्हे नक्सली ईसाई आतंकवादी बनाया जाता है। जिनसे हमारे सैनिकों की हत्या करायी जाती है। बड़ी संख्या में आये प्रदर्शनकारियों को सम्बोधित करते हुए द्वारा सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री मुकेश जैन ने कहा कि अनाथालय चलाने और सेवा के नाम पर सी आई ए अपने चर्च रूपी आतंकवादी अड़डों को जो फंडिंग कर रही है उसका एकमात्र मकसद पूर्वोत्तर और पूर्वी भारत को भारत से काटकर एक अलग ईसाई देश बनाना है। जिसके लिए अरबों-खरबों की सीआईए की फंडिंग हो रही है। 
दारा सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री मुकेश जैन ने केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह से भी अनुरोध किया कि वें सेवा व अन्य कार्यो के नाम पर की जा रही हर प्रकार की विदेशी फंडिंग पर रोक लगाए। श्री जैन ने खुलासा किया सीआईए अपनी नक्सली ईसाई आतंकवाद की फंडिंग के खिलाफ आवाज को दबाने के लिए कई हिंदू संगठनों, वकीलों व अन्यों को भी बड़ी फंडिंग कर रही है। हिन्दू संस्थाओं और वकीलों की जबान पर ताला लगाने के लिये की जा रही इस फंडिंग को सी आई ए अमेरीकी हिंदुओं द्वारा दिया जा रहा पैसा दिखा रही है। जैसे सीआईए कश्मीरी आतंकवादियों का मदीना ट्रेडिंग कम्पनी के जरिये दुबई से फंडिंग कर रही थी। श्री जैन ने खुलासा किया कि आज देश में सेवा के नाम पर ईसाई अनाथालय चलाने के नाम पर जो भी फंडिंग हो रही है उसका एकमात्र मकसद पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत को भारत से काटकर एक अलग ईसाई देश बनाना है। इसके लिए अरबों-खरबों रुपयों की फंडिंग और बन्दर बाट हो रही है।
दारा सेना के अध्यक्ष श्री मुकेश जैन ने विदेशी फंडिंग के जरिये के मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश को ईसाई बहुल बनाने के षडयन्त्र का ख्ुलाया करते हुए बताया कि 15 साल पहले अरुणाचल प्रदेश में मुख्यमंत्री गोगांग अपांग के राज में अरुणाचल प्रदेश में एक भी ई्रसाई नहीं था। किंतु नागालैंड के ईसाई आतंकवादी गिरोह एनएससीएन ने  मुख्यमंत्री गोगांग अपांग के भाई को अगवा करके उसका कत्ल करने की धमकी दी जिसके कारण एक हिन्दू मुख्यमंत्री गोगांग अपांग को अपना पद छोड़ने को मजबूर किया गया और अरुणाचल प्रदेश के हिन्दुओं को आतंक के साए में ईसाई बनाया गया। आज सी आई ए के चर्च रुपी आतंकवादी अड़डों ने अरूणाचल और मणिपुर के ईसाई बहुल राज्य बना दिये हैं।
हिंदू संगठनों ने दारा सेना के अध्यक्ष श्री मुकेश जैन के नेतृत्व में ईसाईयों के गुरू पोप फ्रांसिस, सी आई ए, और सर्वोच्च न्यायालय के जज शरद अरविन्द बोबड़े और धन्जय चन्द्रचूड़ पुतला भी जलाया। पुतले में आग लगाते हुए बिगबोस के सुपर हीरो स्वामी ओम जी ने कहा कि यह वो ही बेईमान बोबड़े है जिसने बिना की किसी साक्ष्य सबूत के दीवाली के पटाखों को सी आई ए के ईशारे पर प्रदूषणकारी बता कर प्रतिबन्धित किया। यही नही सर्वोच्च न्यायालय के जज प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की हत्या की साजिश रच रहे खूंखार नक्सली ईसाई अतंकवादी गौतम नवलखा और इन आतंकवादियों की साथी इंदिरा जयसिंह को लगातार पुलिस पूछताछ से बचा रहे हैं। 
हिन्दू संगठनों ने केंद्र सरकार से मांग की सरकार हर प्रकार के विदेशी अनुदान पर रोक लगाए। इसी के साथ सरकार नक्सली ईसाई आतंकवादियों के रहनुमा सर्वोच्च न्यायालय के जगदीश सिंह खेहर जैसे जजो, प्रशान्त भूषण,इन्दिरा जय सिंह कामिनी जायसवाल जैसे वकीलों, नन्दिनी सुंदर, अग्निवेश, अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया, रवीश कुमार जैसे सी आई ए के पे रोल पर काम कर रहे भेड़ की खाल में छुपे भेडियों रूपी समाजसेवी, मीडिया कर्मियों और नेताओं को गैरकानूनी गतिविधि निवारक कानून के तहत गिरफ्तार कर इन देशद्रोहियों के फन कुचले ताकि नक्सली ईसाई आतंकवाद का खात्मा हो सके।