कोविड-19 के बढ़ते तनाव के बीच सोने की कीमतें बढ़ी : प्रथमेश माल्या, एंजेल ब्रोकिंग
July 16, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार, वीरवार 16 जुलाई 2020, नई दिल्ली। दुनियाभर की सरकारों का ध्यान बढ़ती महामारी की स्थिति से निपटने पर है, साथ ही विश्व अर्थव्यवस्था को मंदी में जाने से रोकने पर भी है। वायरस की घातक दूसरी लहर को लेकर अशुभ खतरे बने रहे, और देशों ने संभावित टीका परीक्षणों में तेजी लाने की कवायद तेज कर दी है।
सोना
सोमवार को, स्पॉट गोल्ड की कीमतें 0.24 प्रतिशत बढ़कर $1802.7 प्रति औंस पर बंद हुईं क्योंकि यू.एस. और दुनिया के अन्य हिस्सों में कोरोनोवायरस के मामलों में तेजी से वृद्धि जारी रही। इससे आर्थिक रिकवरी में अनुमान से ज्यादा समय लगने की चिंताओं ने निवेशकों को सेफ-हैवन संपत्ति यानी सोने की ओर धकेल दिया। कोरोनोवायरस ने पिछले सात महीनों में दुनियाभर में आधे मिलियन से अधिक लोगों की हत्या कर दी है। कई स्थानों पर फिर से लॉकडाउन लग रहे हैं,, जिसने पीली धातु की कीमत को बढ़ा दिया। हालांकि, अमेरिकी डॉलर की बढ़ती कीमत अन्य मुद्रा धारकों के लिए सोने को अधिक महंगा बना सकती है और इस वजह से लागत में वृद्धि को सीमित कर सकती है।


कच्चा तेल
सोमवार को डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतें 1.11 प्रतिशत घटकर 40.1 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर बंद हुईं क्योंकि मांग संबंधी चिंताओं के कारण महामारी को लेकर तनाव बढ़ गया है। ओपेक और उसके सहयोगियों ने आक्रामक उत्पादन में कटौती जारी रखी गई जिससे कच्चे तेल की कीमतों में सुधार की उम्मीद बढ़ गई है। अनुमान था कि क्रूड की मांग में सुधार के बाद ओपेक के उत्पादन में 2 मिलियन से कटौती बढ़ाकर 7.7 मिलियन बीपीडी की कटौती की जाएगी। हालांकि, हवाई यातायात पर प्रतिबंध जारी रहा और बाजार की भावनाओं पर उसका भार पड़ा।
बेस मेटल्स
सोमवार को, दुनियाभर के केंद्रीय बैंकों ने स्टिमुलस योजनाएं घोषित की जिससे लंदन मेटल एक्सचेंज (एलएमई) पर बेस मेटल की कीमतें बढ़ी, जिसमें सबसे ज्यादा लाभ जिंक को मिला। चीनी बैंकों ने विनाशकारी आर्थिक स्थिति का मुकाबला करने के लिए अर्थव्यवस्था में लोन को बढ़ावा देना जारी रखा। पीपुल्स बैंक ऑफ़ चाइना (पीबीओसी) द्वारा प्रकाशित जानकारी के अनुसार जून-2020 में चीनी बैंकों ने 1.81 ट्रिलियन युआन (लगभग $ 258.29 बिलियन) तक के नए ऋणों बढ़ाए। यह मई 2020 में दिए गए 1.48 ट्रिलियन युआन से बहुत ज्यादा है।
कॉपर
सोमवार को एलएमई कॉपर 2.48 प्रतिशत बढ़कर 6571.0 डॉलर प्रति टन पर बंद हुआ क्योंकि चिली जैसे प्रमुख निर्यात और उत्पादन देशों में माइनिंग ऑपरेशंस बंद होने से आपूर्ति संकट का डर बढ़ गया है। इस बीच, शीर्ष मेटल कंज्यूमर चीन में बढ़ते इंफ्यूजन और मांग ने बाजार की भावनाओं को बढ़ाने में मदद की। यह देखा जाना शेष है कि दुनियाभर के नेता बड़े पैमाने पर परीक्षण, सोशल डिस्टेंसिंग, गरीबी और भुखमरी की समस्याओं से कैसे निपटते हैं। अगर दुनियाभर की सरकारें वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए संयुक्त प्रयास के साथ आती हैं, तो अर्थव्यवस्था और स्वास्थ्य सेवा प्रणालियां सामान्य स्थिति में आ सकती है।