कोरोना केसेस की दूसरी लहर ने यूरो को काबू में रखा
October 2, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 2 अक्टूबर 2020, (लेखक: श्री वकार जावेद खान) नई दिल्ली। 2020 की शुरुआत के बाद से अब तक यूरो-यूएसडी (EURUSD) जोड़ी ने 6.19 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है जबकि यूरो-रुपया (EURINR) में लगभग 8.93 प्रतिशत की गिरावट आई है। इस बीच, डॉलर इंडेक्स में समान समयसीमा में 3.58 प्रतिशत की गिरावट आई है। हालांकि, यूरो ने प्रमुख यूरो ब्लॉक देशों में कोरोनोवायरस मामलों की दूसरी लहर के कारण हाल के दिनों में कुछ मूल्य गंवा दिया है जिससे उनकी आर्थिक रिकवरी के प्रभावित होने की संभावना है। 
यूरोपीय संघ में स्पेन और फ्रांस नए हॉटस्पॉट बने: कोरोनावायरस की दूसरी लहर ने स्पेन और फ्रांस के साथ-साथ यूरोप के प्रमुख हिस्सों को अधिक प्रभावित किया है। फ्रांस ने हाल ही में औसतन लगभग 10,000 मामले रोज दर्ज किए हैं और स्पेन ने कुल मिलाकर 6 लाख मामले पार किए हैं। पिछले दो हफ्तों में ही स्पेन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने 1.2 लाख संक्रमणों का निदान किया है। टेस्ट में पॉजिटिव निकलने का प्रतिशत भी बढ़ गया है।
हालांकि, दोनों सरकारों ने देशभर में किसी भी तरह का लॉकडाउन करने से स्पष्ट इनकार किया है। देश में नेशनवाइड लॉकडाउन नहीं होने से भी कंजम्प्शन का खर्च प्रभावित हो सकता है क्योंकि कोविड-19 मामलों के बढ़ने से लोग डर की वजह से घरों में ही हैं।


बड़े स्तर पर आर्थिक प्रोत्साहन उपाय आएंगे: नई ईसीबी मौद्रिक नीति की बैठक में समिति ने ब्याज दरों में कोई बदलाव न करने का फैसला किया। प्रोत्साहन पैकेज के साथ-साथ ब्लॉक में महामारी की मार झेल रहे देशों को सपोर्ट देने का निर्णय लिया।
इससे पहले की बैठक में ईसीबी ने जून 2021 तक या बैंक को जब तक नहीं लगता कि संकट खत्म हो गया है, तब तक स्टिमुलस प्रोग्राम के आकार को बढ़ाकर 1.35 ट्रिलियन यूरो करने के लिए 600 बिलियन यूरो की पैंडेमिक इमरजेंसी पर्चेज प्रोग्राम का विस्तार किया।
2020 में यूरो में मजबूती क्रिस्टीन लैगार्डे ने कहा कि सेंट्रल बैंक की यूरो में आ रहे वाइल्ड स्विंग पर महत्वपूर्ण नजर रहेगी। सेंट्रल बैंक ने भी जून की बैठक में अपने विकास के पूर्वानुमानों को संशोधित करते हुए जून की बैठक में -8.7 प्रतिशत से बढ़कर अपनी पिछली बैठक में -8 प्रतिशत कर दिया। 2021 के लिए ईसीबी अब 2022 के लिए 5 प्रतिशत और 3.2 प्रतिशत के रीबाउंड की उम्मीद कर रहा है।
क्यू2 2020 में यूरोज़ोन में जीडीपी में संकुचन: सभी देशों में कोविड-19 लॉकडाउन के कारण यूरोज़ोन इकोनॉमी राष्ट्रों में क्यू2 2020 में 12.1 प्रतिशत तक सिकुड़ गई। लॉकडाउन की वजह से व्यवसाय बंद रहे। उपभोक्ताओं के खर्च करने में भी बाधा उत्पन्न हुई। स्पेन के साथ इटली भी महामारी से बहुत ज्यादा प्रभावित देश है जिसमें 18.5 प्रतिशत का संकुचन हुआ है। फ्रांस, पुर्तगाल और अन्य राष्ट्रों ने भी तिमाही में सख्त गिरावट को सहन किया। कोई भी देश महामारी के प्रभाव से बच नहीं पाया। 1995 की शुरुआत से करेंसी यूनियन में ही सबसे बड़ी गिरावट देखी गई।
आउटलुक: रोज अमेरिका के कोरोनोवायरस मामलों की संख्या अपने पीक से कम हो गई है, लेकिन रोज सामने आ रहे मामले अभी भी ऊंचे स्तर पर हैं। अमेरिका में रोजाना बड़ी संख्या में नए केस के साथ-साथ मौतों के मामले भी बढ़ ही रहे हैं। हालांकि, डब्ल्यूएचओ ने यूरोपीय देशों को यूरोप में वायरस की संभावित दूसरी लहर की चेतावनी दी थी, जो स्पेन, फ्रांस और इटली के लिए सच साबित हो रही है। कई देशों के नेताओं ने नेशनवाइड लॉकडाउन की संभावना को कम कर दिया है।
यूएस फेड ने अपनी नई मौद्रिक नीति की बैठक में 2023 तक लगभग शून्य ब्याज दरों की पुष्टि की और इसलिए ईसीबी के साथ भी यह नीति जारी रही है। ईसीबी भी बीमार अर्थव्यवस्थाओं को सपोर्ट देने के लिए तैयार है, लेकिन साथ ही कुछ राजकोषीय प्रोत्साहन भी देने की उम्मीद करता है।


इस बीच, अमेरिकी 10 साल की ट्रेजरी यील्ड महामारी की शुरुआत के बाद से गिर रही है क्योंकि निवेशक अभी भी वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं में रिकवरी को लेकर सतर्क हैं। यूएस 10 वर्ष यील्ड फरवरी 2020 के 1.684% के प्री-कोविड लेवल से गिरकर सितंबर 2020 में 0.666% तक आ गई है। इसलिए, यूरो-रुपया (सीएमपी: 86.9) सितंबर 2020 के अंत तक स्पेक्ट्रम के निचले छोर पर 86 मार्क से लेकर 88 मार्क के उच्च तक बढ़ने की संभावना है।