कमोडिटी ने दिए मिश्रित संकेत एंजिल ब्रोकिंग लिमिटेड
April 18, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार शनिवार 18 अप्रैल 2020 नई दिल्ली। कोविड-19 महामारी से रिकवरी की पृष्ठभूमि में तेज नुकसान से बचने के लिए निवेशक जिंसों पर आक्रामक दांव लगाने से बच रहे हैं। हालांकि, सभी बड़े देशों ने अपनी  अर्थव्यवस्थाओं के लिए रिकवरी प्लान तैयार कर लिए हैं, लेकिन निवेशक अब भी इस बात को लेकर सुनिश्चितन नहीं है कि कितने समय में औद्योगिक गतिविधियां पहले की तरह सामान्य हो जाएंगी।


सोना :
गुरुवार को स्पॉट गोल्ड की कीमत 0.11 प्रतिशत बढ़कर 1717.7 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई। अमेरिकी अर्थव्यवस्था ने पिछले हफ्ते बेरोजगारों के आंकड़ों में गिरावट दर्ज की, जिससे उम्मीदें बढ़ गईं कि कोविड-19 महामारी का असर जल्द ही कम होगा। लगभग 5.2 मिलियन अमेरिकियों ने पिछले हफ्ते बेरोजगारी लाभ का दावा पेश किया जो कि इसके पहले के सप्ताह के 6.6 मिलियन के मुकाबले थोड़ा कम था। पिछले एक महीने में कुल रिपोर्ट में बेरोजगारी दावों में 20 मिलियन से अधिक की वृद्धि हुई है क्योंकि अमेरिका में आर्थिक गतिविधियां ठहराव पर आ गई हैं। एक महीने के लॉकडाउन के बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने अर्थव्यवस्था को फिर से खोलने के लिए नए दिशानिर्देशों की घोषणा की, जिसका नतीजा यह हुआ कि सुरक्षित संपत्ति के तौर पर बाजार में सोने की मांग बढ़ गई। हालांकि, वैश्विक मंदी की चिंताओं ने महामारी से पैदा हुए कहर को भी दर्शाया है जिसने 2 मिलियन से अधिक लोगों को संक्रमित किया है और दुनिया भर में 1,36,667 लोगों की मौत हुई है। इसने सोने की कीमतों को काबू में रखा है। 
चांदी :
गुरुवार को स्पॉट सिल्वर की कीमतें 0.94 प्रतिशत बढ़कर 15.6 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुईं जबकि एमसीएक्स पर कीमतें 0.51 प्रतिशत की तेजी के साथ 44,255 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुईं
कच्चा तेल :
गुरुवार को कच्चे तेल की कीमतें 19.9 डॉलर प्रति बैरल पर फ्लैट बंद हुईं क्योंकि ओपेक+ ने उत्पादन गतिविधियों को थाम लिया और यूएस ने कीमतों में मंदी का समर्थन किया है। हालांकि, दुनिया भर में लॉकडाउन के कारण कम हुई मांग ने कच्चे तेल की कीमतों को काफी प्रभावित किया है, क्योंकि ईंधन की औद्योगिक मांग में गिरावट आई है। ओपेक और उसके सहयोगियों ने कुछ समय में अपना उत्पादन घटाकर 19.5 मिलियन बैरल प्रति दिन करने का फैसला किया है। मार्च-2020 में तेल की कीमतों के 18 महीने के निचले स्तर पर आने के बाद यह कदम उठाया गया। तेल की कीमतों में गिरावट आई है क्योंकि कई देशों द्वारा घोषित किए गए लॉकडाउन के कारण औद्योगिक गतिविधियों में गिरावट आई है और तेल की मांग थम गई है। मंदी की चिंताओं ने कच्चे तेल के डिमांड आउटलुक पर भी संदेह के बादल ला दिए हैं और इससे कीमतें और नीचे चली गई हैं। हालांकि, मांग में कमी की वजह से ओपेक+ ग्रुप ने उत्पादन में कटौती की और अमेरिका में रिफाइनरी उत्पादन में कमी की गई, इससे कीमतों की गिरावट सीमित करने में मदद मिली है।  
बेस मेटल्स :
गुरुवार को लंदन मेटल एक्सचेंज (एलएमई) पर बेस मेटल की कीमतें मिश्रित रहीं क्योंकि संभावित वैश्विक मंदी के कारण औद्योगिक धातुओं की मांग कम हुई है। चीन से आए  सकारात्मक आर्थिक आंकड़ों ने कीमतों को कुछ सपोर्ट दिया है। हालांकि, बाकी दुनिया में औद्योगिक गतिविधि में ठहराव स्पष्ट रूप से आर्थिक मंदी का संकेत दे रहा है, जिसके कारण बेस मेटल्स की मांग में कमी आई है। कोविड-19 के प्रकोप ने वैश्विक मंदी की आशंका को मजबूती दी है , जिसने औद्योगिक धातुओं के आउटलुक को कमजोर किया है।
लॉकडाउन के बाद ऑपरेशंस शुरू करने में भी औद्योगिक गतिविधियां धीमी ही रहेंगी जिससे बेस मेटल की कीमतों पर मंदी का असर रहने की संभावना है।
कॉपर :
गुरुवार को एलएमई कॉपर की कीमतें 0.56 प्रतिशत बढ़कर 5,140 डॉलर प्रति टन पर बंद हुईं क्योंकि चीन के सकारात्मक आर्थिक आंकड़ों ने लाल धातु की कीमतों को सपोर्ट दिया। एलएमई वेरिफाइड वेयरहाउस पर कॉपर इन्वेंट्री का स्तर 2020 की शुरुआत के बाद से लगभग दोगुना हो गया है, जो इस धातु के प्रति डिमांड में गिरावट का स्पष्ट संकेत है।