जिला हमीरपुर में सर्दी का सितम जारी, ठण्ड से किसान की मौत
December 26, 2019 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार वीरवार 26 दिसम्बर 2019 (आशीष निगम) मौदहा,हमीरपुर। हमीरपुर।क्षेत्र सहित जनपद में सर्दी का सितम बढता ही जा रहा है।सुबह क्षेत्र में हुई हल्की बारिश ने जहां किसानों के चेहरे पर मुस्कान ला दी है।वहीं गरीबों और यात्रियों की मुश्किलें बढ़ गई हैं।सर्दी को देखते हुए जिले के सभी स्कूल कालेज आज तक के लिए बंद कर दिऐ गए हैं।तो वहीं अब सर्दी से होने वाली मौतों का सिलसिला भी शुरू हो गया है।और एक किसान की सर्दी लगने से मौत हो गई है। सुमेरपुर थाना क्षेत्र के ग्राम टेढ़ा मे आज सुबह सर्दी के कारण एक किसान की मौत हो गई है। मिली जानकारी के अनुसार मृतक किसान रात में खेत की सिंचाई करके सुबह अपने घर वाटस आया था।और जैसे ही घर आकर हाँथ पैर धोने लगा।तभी अचानक उसकी  हालत बिगड़ने लगी।आनन फानन में परिजनों द्वारा मृतक को पीएचसी सुमेरपुर ले जाने की व्यवस्था की गई।लेकिन तभी उसकी मौत हो गई।


मृतक बिंदा प्रसाद(48) पुत्र नत्थू सिंह के पुत्र ब्रजेंद्र सिंह ने बताया कि रविवार की शाम को वह खाना खाकर खेत गए थे ¦रात में खेत में पानी लगाते रहे सुबह होते ही जब वह घर आए तो हाँथ पैर धोकर जैसे ही बैठे उनकी हालत बिगड़ने लगी ।जब तक डाक्टर को बुलाया और बाहर ले जाने की व्यवस्था की गई तब तक उनकी मौत हो चुकी थी।वहीं मृतक के पुत्र का कहना है कि पिता की मौत ठंड व बैंक के कर्ज के बोझ के कारण हुई है। उसने बताया कि पिता के नाम करीब तीन लाख रुपये आर्यावर्त यूपी ग्रामीण बैक टेढ़ा का कर्ज था ।तथा साठ हजार रुपये में कुछ जमीन गिरवी भी रख दी थीं।बैंक की तरफ से 6 दिन से लगातार धन जमा करने की मांग की जा रही थी ।जिसके चलते पिता मानसिक तनाव मे रहते थे ।वहीं पुत्र ने यह भी बताया कि उनके पास मात्र 12 बीघे जमीन है ।वह दो भाई हैं छोटा भाई भोला सिंह 12 वर्ष का है जबकि वह 14 साल का है ।घर में हुई मौत को लेकर परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है। आसपास के लोग मृतक के घर जाकर बच्चों कोतसल्ली दे रहे हैं।मृतक के पुत्रों की माने तो पिता की मृत्यु के बाद अब वह पूरी तरह से अनाथ हो गए हैं क्योंकि पिता के नाम भारी कर्ज है और कुछ जमीन गिरवी रखी है ऐसी स्थिति में परिवार का पालन कैसे संभव हो पाएगा किसान पुत्रों ने शासन प्रशासन से सहयोग की मांग की है ताकि उसका परिवार बर्बाद होने से बच सके।