हिन्दू सन्तों के वकील दिग्विजय त्रिवेदी की हत्या की सीबीआई जांच की जाये : मुकेश
May 16, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 16 मई 2020, नई दिल्ली। धर्मरक्षक श्री दारा सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री मुकेश जैन की अध्यक्षता में हुई हिन्दू संगठनों की बैठक में आतंकवादी ईसाई मिश्निरियों और आतंकवादी कम्युनिस्टों द्वारा पालघर में मारे गये हिन्दू सन्तों के विश्व हिंदू परिषद की तरफ से वकील दिग्विजय त्रिवेदी जी की सड़क दुर्घटना में हुई मृत्यु को दुःखद बताते हुए इस सड़क दुर्घटना में हुई मृत्यु की सी बी आई से जांच कराने की मांग की।


बैठक में दारा सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री मुकेश जैन ने कहा कि इतिहास गवाह है कि नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरियों की राह में जो भी रोड़ा बना, उसको इन्होंने मार दिया या जेल में डलवा दिया। चाहे वो उडिसा के धर्मरक्षक श्री दारा सिंह हो या स्वामी लक्ष्मणानन्द हो या स्वामी असीमानन्द हो या सन्त शिरोमणि आसा राम बापू या त्रिपुरा के प्रसिद्ध शान्ति काली महाराज या बोड़ो साहित्य सभा के अध्यक्ष बिनेश्वर ब्रह्म हो या पालघर संत हत्याकांड में वकील दिग्विजय त्रिवेदी। 
बैठक में श्री जैन ने पालघर हिंसा पर चुप रहने वाले उन देशद्रोहियों और मिश्निरियों के छुपे हुए गुर्गों से हिन्दू संगठनों और देशवासियों का भी परिचय कराया, जिन्होंने हिन्दुत्व का चौला पहन रखा है, पर वास्तव में ये नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरियों के गैंग में काम करते हैं। फिर इन्हें अग्निवेश कहो, या प्रवीण भाई तोगड़िया या डासना गाजियाबाद का गैंगस्टर गृहस्थ यति नरसिंह या उसकी बडी बिन्दी लगाने वाली महिला मित्र चेतना सरस्वती या ज्योतिषी एच एस रावत या कालका जी दिल्ली का ज्योतिषी विवेक मुद्गल। इन सी आई ए और नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरियों के ऐजेन्टों का काम है, पालघर में नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरियों द्वारा की हिन्दू सन्तों की हत्या को मुसलमानों के मत्थे मढ़ देना। बस ओए बस को मार सओएब मार कह कर नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरियों की काली करतूतों पर पर्दा डालना और शोएब का झूठ फैलाकर हिन्दू सन्तों की हत्या को मुसलमानों के मत्थे मढ़ देना। श्री जैन ने इस साजिश में हिन्दुत्व का झण्डा बुलन्द करने वाले बड़े-बड़े सिपहसालरों को शामिल पाकर देशवासियों को सतर्क किया कि वें सावधान रहे कि कहीं उनके बराबर में बैठा व्यक्ति इन्हीं नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरियों का ऐजेन्ट तो नहीं है। श्री जैन ने कहा कि पालघर में सन्तों की हत्या पर जो खामौश है वो इसी नक्सली ईसाई आतंकवादी गैंग के लिये काम कर रहे हैं। फिर चाहे वो शातिर अन्ना हजारे हो या देशद्रोही केजरीवाल या कम्युनिस्ट का चौला पहने खूंखार नक्सली ईसाई आतंकवादी सीताराम येचुरी , वृंदा करात , प्रकाश करात या कन्हैय्या कुमार या अग्निवेश या उपर बताये हिन्दुत्व का चैला पहने शातिरों का गिरोह।
श्री जैन ने हिन्दू संगठनों को चेताया कि आवश्यकता इन देशद्रोहियों को पहचानने की ही नहीं है बल्कि सैनिकों के हत्यारे नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरियों के पाले इन देशद्रोहियों को उसी प्रकार से जिन्दा जलाने की है जैसे हमारे धर्मरक्षक श्री दारा सिंह ने उडीसा में उस नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरी फादर ग्राह्म स्टेन्स को जिन्दा जलाया था जिसने पुरलिया में हवाई जहाज से नक्सली ईसाई आतंकवादियें के लिये हथियार गिरवाये थे। श्री जैन ने बताया कि जब मैं धर्मरक्षक श्री दारा सिंह के साथ उड़ीसा की बारीपदा जेल में था तो दारा भाई ने मुझे बताया था कि उन्होंने ईसाई मिश्निरी फादर ग्राह्म स्टेन्स को इसी लिये जिन्दा जलाया था, क्योंकि नक्सली आतंकवादी ग्राह्म स्टैंस ने अपने नक्सली ईसाई आतंकवादियों के लिये पुरलिया में हवाई जहाज से हथियार गिरवाये थे और आज तक भी हथियार गिरवाने वाले पकड़े गये किन्तु हथियार उठवाने वाले नहीं पकड़े गये। श्री जैन ने कहा कि खुशी की बात है कि हमारे धर्मरक्षक इन देश के दुश्मनों को पहचान रहे है ।  नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरी फादर ग्राह्म स्टेन्स  सहित गौरी लंकेश , कलबुर्गी, गोविन्द पनसरे और नरेन्द्र दाभोलकर की हत्या पर खूंखार नक्सली ईसाई आतंकवादी गैंग का रोना चिल्लाना और उनके नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरी गैंग की पत्रकार बिरादरी का गले फाड़-फाड़ कर चिल्लाना साबित करता है कि हिन्दू धर्मरक्षकों जिन्हें सनातन संस्था का बताया जा रहा है, धर्मरक्षक श्री दारा सिंह की राह पर चलकर सही और सटिक निशाना साध रहे है।
श्री जैन ने हिन्दू संगठनों को बताया कि आतंकवादी ईसाई मिश्निरियों के स्कूलों में अपने बच्चों को पढ़ाने का मतलब है, नक्सली ईसाई आतंकवादियों का पौषण करना। उनको हमारे सैनिकों की हत्या करने के लिये हथियार और गोला बारूद मुहैय्या कराने के लिये फंड देना। नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरी स्कूल ही नहीं इन स्कूलो में अपने बच्चों को पढ़ाने वाले भी भारत के शत्रु हैं। इसी के साथ जो संघ लोक सेवा आयोग अपने 98 प्रतिशत आई ए एस अफसर इन्हीं स्कूलों की पैदाईशों को बनाता है, उससे बड़ा देश का शत्रु कोई नहीं है। श्री जैन ने कार्मिक ओर लोक शिकायत मंत्री श्री जितेन्द्र सिंह की प्रशंसा करते हुए कहा कि हमने उन्हें संघ लोक सेवा आयोग की सी-सेट परीक्षाओं से साढ़े 22 अंक का अंग्रेजी का अनिवार्य प्रश्नपत्र हटाने की मांग की थी जिसे उन्होंने तत्काल हटा दिया था। किन्तु उसके बाद भी उन्होंने संघ लोक सेवा आयोग के नक्सली आतंकवादी गैंग के अध्यक्ष द्वारा केवल 2 प्रतिशत हिन्दी और भारतीय भाषाई छात्रों के चयन पर ध्यान नहीं दिया। इसके लिये संघ लोक सेवा आयोग के खूंखार नक्सली ईसाई आतंकवादी अध्यक्ष को वक्त रहते फांसी पर नहीं लटकवाया तो यें और इनके नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरी स्कूलों की पैदाईश आई ए एस अफसर पालघर में सन्तों की हत्या कराने वाले अपने गुरू फादर पीटर डिमेलों के साथ मिलकर हमारे सन्तों की इसी प्रकार से हत्या कराते रहेंगे। आजादी के 70 सालों में हमारे 1 लाख से अधिक हिन्दुओं को नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरियों ने डायन के नाम पर पुलिस के मुखबिर के नाम इस लिये मार दिया की उन्होंने ईसाई बनना स्वीकार नहीं किया। इतना ही नहीं पूर्वोत्तर के नागालैन्ड मिजोरम आदि के ईसाई आतंकवाद और देश के अन्य हिस्सों के नक्सली ईसाई आतंकवाद में भी हमारे 80000 से अधिक सैनिको को नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरिया ने मारा है। श्री जैन ने बताया कि बड़े षड़यंत्र के साथ नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरी स्कूलों की पैदाईश आई ए एस अफसरों ने इस नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरियों द्वारा किये नरसंहार को छिपाया है।
हिन्दू संगठनों ने सरकार को चेताया कि अब वक्त की जरूरत है सरकार इन नक्सली आतंकवादी ईसाई मिश्निरी स्कूलों का और इनके पौषक संघ लोक सेवा आयोग का भी नरसंहार करके अपने नागरिको और सैनिकों की हत्या का बदला ले। हिन्दू संगठनों ने आतंकवादी ईसाई मिश्निरियों द्वारा पालघर में की हिन्दू सन्तों की नृशंस हत्या के साथ-साथ त्रिपुरा, नागालैंड, मिजोरम, मेघालय, मणिपुर, अरूणाचल, असम, झारखण्ड, बिहार, छत्तीसगढ़ सहित तेलंगाना और आन्ध्रप्रदेश में डायन और पुलिस के मुखबिर बता कर मारे गये 1 लाख हिन्दुओं और हिन्दू पुजारियों की हत्या की जांच करने की मांग की। हिन्दू संगठनों ने आतंकवादी ईसाई मिश्निरियों द्वारा लाखों हिन्दू मन्दिरों को तोड़कर उन पर बनाये नक्सली आतंकवाद के अड्डे चर्चो को भी तत्काल तोड़ने की भी भारत सरकार से मांग की।