हमीरपुर में सपा नेता पर गाली गलौज करने के साथ घर मे घुसकर मारपीट करने का आरोप
June 1, 2020 • Daily Shabdawani Samachar


शब्दवाणी समाचार, सोमवार 01 जून 2020, (आशीष निगम), हमीरपुर। सपा नेता पर गाली गलौज करने के साथ घर मे घुसकर मारपीट करने का आरोप लगाकर कस्बे के एक कथित पत्रकार ने कोतवाली पुलिस को तहरीर सौपतेे हुये न्याय की गुहार लगायी। हालाकि शिकायतकर्ता की तहरीर पर कोतवाली पुलिस पडताल करती इससे पहले ही शिकायत कर्ता के विरूद्व भी कोतवाली मे छेडखानी का मामला दर्ज करने की फरियाद कस्बे की एक महिला ने लगायी गयी है। वहीं कोतवाली पुलिस ने मामले को गम्भीरता से लेते हुये पडताल शुरू कर दी।

 
कस्बे के रईस अहमद उर्फ पप्पू करिया द्वारा बताया गया कि वह पेशे से पत्रकार है । 29 मई की सुबह उसके घर मे घुसकर यहीं के सपा नेता शादाब हुसैन उर्फ बिटटू ने अपने भाई अरशद व पिता सुलेमान सहित उसके साथ मारपीट की व बचाने आयी उसकी पत्नी को भी पीटा । पीडित ने सपा नेता व उसके भाई पर कई और गम्भीर आरोप लगाकर कोतवाली मौदहा मे तहरीर सौपते हुये कार्यवाही की मांग की थी। जिसके बाद कथित पत्रकार रईस उर्फ पप्पू करिया के विरूद्व भी 30 मई की शाम छेडखानी की तहरीर कोतवाली मौदहा मे पहुंची है। कथित पत्रकार का आरोप है कि उसपर दबाव बनाने के उददेश्य से सपा नेता ने ही महिला का झूठा शिकायती पत्र लेकर कोतवाली पहुंचाया है । वहीं सपा नेता शादाब हुसैन उर्फ बिटटू ने बताया कि उन लोगो पर लगे आरोप मनगढन्त है । बीते दो दिन पहले कथित पत्रकार कस्बे के एक होटल मे उनके पिता का नाम लेकर अभद्र भाष का प्रयोग कर रहा था जिसके बाद वहीं खडे उसके भाई अरशद ने उसका विरोध किया और इसी से खुन्नस के बाद  कथित पत्रकार ने उनके विरूद्व घर मे घुस कर मारपीट करने के झूठे आरोप लगाकर तहरीर सौपी है। जबकि पत्रकार पर छेडखानी के आरोप लगाने वाली महिला से उसका कोई वास्ता नही है।
वहीं कस्बे की एक महिला ने कोतवाली पुलिस को तहरीर देते हुए बताया कि 30 तारीख की शाम जब वह घर में अकेली थी। तभी रईस अहमद उर्फ पप्पू करिया व चुनना निवासी उपरौस उसके घर आए और उसे पटक कर उसके साथ बलात्कार का प्रयास करने लगे। शोर शराबा सुनकर पड़ोसियों ने उसे बचाया उक्त मामले मे कोतवाली प्रभारी राजेश चन्द्र त्रिपाठी द्वारा बताया गया कि मामले मे पडताल की जा रही है , प्रथम दृष्टया घर मे घुसकर मारपीट के आरोपो सहित छेडखानी के आरोप का दूसरा मामला पहले मामले से जुडा दिखाई दे। जांच उपरान्त वैधानिक कार्यवाही की जायेगी।