हमीरपुर में दिव्यांग किसान का दूसरा पैर तोडने की ठेकेदार ने दी धमकी
May 27, 2020 • Daily Shabdawani Samachar


शब्दवाणी समाचार, बुधवार 27 मई  2020, (आशीष निगम), हमीरपुर। दिव्यांग किसान की मजबूरी का फायदा उठाते हुये र्निमाणाधीन एक्सप्रेस-वे के ठेकेदार ने किसान के खेत से लगभग 60 मीटर के दायरे मे 10 फुट गहराई तक मिटटी की खुदाई करवाते हुये न ही उसे उचित मुआवजा दिया है और न ही वादे के मुताबिक काम की वेतन। इतना ही नहीं मुआवजा व वेतन मांगने पर धमकी भी दी है कि यदि अब रूपया मांगने आये तो दूसरा पैड भी तुडवा दिया जायेगा। मामले मे शिकायत के बाद उपजिलाधिकारी व कोतवाली पुलिस द्वारा सुनवाई न किये जाने से आहत पीडित किसान ने सीएम पोर्टल मे शिकायत दर्ज करवाते हुये  सीधा प्रदेश के मुख्यमन्त्री से न्याय की गुहार लगायी है।
कोतवाली क्षेत्र के रीवन गांव निवासी पीडित दिव्यांग किसान राममिलन तिवारी पुत्र ब्रहमस्वरूप तिवारी द्वारा सीएम पोर्टल मे शिकायत दर्ज करवाते हुये बताया कि वह चार भाई है व 4 भाईयो के बीच मे साढे पांच बीघा कृषि योग्य भूमि है। जिसपर एक्सप्रेस वे के ठेकेदार ने उसके खेत से मिटटी खुदाई के बदले पैसे व नौकरी का भरोसा देकर लगभग 60 फुट की के दायरे मे 10 फुट तक गहरी मिटटी की खुदाई कर दी। किन्तु खुदाई के बाद न ही उसके काम का वेतन दिया और न ही खुदाई का उचित मुआवजा ही दिया। 


पीडित राममिलन द्वारा बताया गया कि वह पैर से विकलांग है, मोटर सायकिल एक्सीडेन्ट मे उसका एक पैर टूट गया था।जिसके इलाज मे डाक्टरो ने लगभग 3 लाख का खर्च बताया है। पैर का इलाज ध्यान मे रखते हुये गांव के पास से गुजर रहे एक्सप्रेस-वे के ठेकेदार दत्ता के कहने से उसने अपने भाईयो सहित खुद की भूमि मे भी 10 लाख रू मुआवजे के एवज मे खेत से मिटटी खुदाई की बात लिखित एग्रीमेट के बाद कही थी। 
किन्तु खेत देखने के बाद ठेकेदार दत्ता ने बिना उसकी उपस्थिति व बिना अनुमति ही उसके खेत से लगभग 60 फुट के दायरे मे 10 फुट की गहराई तक खुदाई कर डाली। उसने ठेकेदार को बिना किसी एग्रीमेंट के खुदाई करने से मना किया तो ठेकेदार ने जल्द ही एग्रीमेट की बात करने के साथ उसे 10 हजार रूपये की नौकरी मे रखने का आश्वासन देकर उसे खुदाई की देखभाल मे लगा दिया और खुदाई चालू रखी। किन्तु ठेकेदार ने न ही काम के पैसे दिये और न ही खुदाई के और मुआवजा देने के नाम पर मात्र 25 हजार रूपये देकर उसको धमकी देते हुये कहा कि आज के बाद मेरे पास रूपया मांगने नही आना अन्यथा पैसे भी वापस ले लिये जायेगे और दूसर पैर भी तुडवा देंगे।
पीडित ने बताया कि उक्त मामले मे उपिंजलाधिकारी मौदहा अजीत परेश व कोतवाली प्रभारी राजेश चन्द्र त्रिपाठी को भी लिखित शिकायत करने के साथ कार्यवाही की मांग की किन्तु उसकी कहीं सुनवाई नही हुयी। कहा गया कि एक्सप्रेस-वे के ठेकेदार दत्ता ने नौकरी व 10लाख रूपये का आश्वासन देकर जिस प्रकार जमीन मे खुदाई कराकर उसे धोखा है , उससे पीडित की अपूणर्नीय क्षति हुयी है। पीडित पैर से विकलांग है जिसके इलाज हेतू पीडित ने उक्त खुदाई का बात ठेकेदार से कही थी, किन्तु उसे न मिटटी खुदाई का पैसा मिला और न ही काम का। जबकि बिना किसी लिखित एग्रीमेट के जबरन मिटटी खुदाई के बाद उसका खेत तबाह कर दिया गया है। पीडित दिव्यांग किसान ने अपनी पीडा मुख्यमन्त्री पोर्टल मे दर्ज कराते हुये उक्त ठेकेदार के विरूद्व कार्यवाही करने के साथ उचित मुआवजा भी दिलवाये जाने की गुहार लगायी है।