गिरा मार्केट सेंसेक्स 242 अंक लुढ़का, निफ्टी 9,200 के नीचे हुआ बंद : अमर देव
May 7, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 08 मई  2020, नई दिल्ली। देश में बढ़ते कोरोनोवायरस मामलों के बीच भारतीय बाजार आज गिर गए और कमजोर रुझानों पर बंद हुए। सेंसेक्स अपने कल के प्रदर्शन में 0.76 प्रतिशत या 242.37 अंक की गिरावट के साथ 31,443.38 पर बंद हुआ। निफ्टी 0.78 प्रतिशत या 71.85 अंकों की गिरावट के साथ 9199.05 पर बंद हुआ था। सेंसेक्स में गिरावट की मुख्य वजह एचडीएफसी बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, भारती एयरटेल, एचडीएफसी और आईसीआईसीआई बैंक के शेयरों के लुढ़कने से हुई। कुल मिलाकर बाजार न्यूट्रल था जिसमें एनएसई पर 812 शेयरों ने बढ़त हासिल की और 939 शेयरों ने नुकसान दर्ज किया।


कोरोना के बढ़ते मामलों ने निवेशकों की भावनाओं पर चोट की देश में कोरोनोवायरस के मामलों की बढ़ती संख्या ने निवेशकों की भावनाओं पर असर शुरू कर दिया है। पिछले 24 घंटों में देश में 3,561 नए मामले सामने आए, जिससे सरकारी आंकड़ों के अनुसार कुल रोगियों की संख्या 52,952 हो गई। 24 घंटे में 89 लोगों ने वायरस की वजह से अपनी जान गंवाई। खतरनाक वायरस के साथ-साथ, सरकार की आय कमजोर होने की घोषणा ने भी निवेशकों को हतोत्साहित किया। 
निफ्टी में गिरावट कमजोर हुई भले ही निफ्टी में आज गिरावट जारी रही, लेकिन इसकी गति धीमी हुई है। मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में भी मिलाजुला रुख रहा, जहां निफ्टी मिडकैप 100 इंडेक्स में 0.5 फीसदी की गिरावट आई और निफ्टी स्मॉलकैप इंडेक्स में 0.5 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई।
पीएसयू बैंक टॉप गेनर्स में 11 सेक्टर लोवर नोट पर बंद हुए जबकि निफ्टी फाइनेंशियल सर्विसेस इंडेक्स 1.6 प्रतिशत गिर गया। निफ्टी पीएसयू बैंक इंडेक्स अन्य व्यक्तिगत शेयरों के साथ 0.5 प्रतिशत के साथ टॉप गेनर रहा। यस बैंक ने मार्च में समाप्त तिमाही में 2,628 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया, जिसके बाद शेयरों में 20 प्रतिशत तक की तेजी रही। इसी अवधि में पिछले साल यस बैंक ने 1,506.64 करोड़ रुपए का लाभ अर्जित किया था। अन्य गेनर्स में इंडसइंड बैंक, अडानी पोर्ट्स, महिंद्रा एंड महिंद्रा ने क्रमशः 6.58 प्रतिशत, 4.39 प्रतिशत और 3.68 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की।       
एनटीपीसी 4.3 प्रतिशत की गिरावट के साथ टॉप लूजर रहा और 90.60 रुपये पर बंद हुआ। अन्य मार्केट लूजर्स में ओएनजीसी (4.16 प्रतिशत), भारत पेट्रोलियम (4.25 प्रतिशत),  कोटक महिंद्रा बैंक (3.69 प्रतिशत) शामिल हैं।
भारती एयरटेल, यूपीएल, ज़ी एंटरटेनमेंट, और बजाज ऑटो भी प्रत्येक 2.7 से 4.25% की गिरावट दिखा रहे थे।
लॉकडाउन के विस्तार के डर से माहौल में अनिश्चितता आती है और क्योंकि निवेशकों को आर्थिक व कॉर्पोरेट आय के कमजोर पड़ने की चिंता है। वैश्विक बाजार के बारे में बात करते हैं तो कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट जारी रही। आगे संकेत मिलता है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था अभी तक रिकवरी के रास्ते पर नहीं आई है। उम्मीद है कि भारतीय बाजार आगे भी अस्थिर बने रहेंगे।