गैजेट्स के अत्यधिक इस्तेमाल से बढ़ रही है आँखों की समस्याएं : डॉक्टर रतन पुरोहित
January 1, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार बुधवार 01 जनवरी 2020 नई दिल्ली। इन दिनों लाइफस्टाइल बीमारियों की संख्या में जिस तरह इजाफा हुआ है गैजेट्स का लम्बे समय तक उपयोग एक मुख्य कारन है। लम्बे समय तक मोबाइल फ़ोन ,टीवी या लैपटॉप के इस्तेमाल से आँखों पर बुरा असर होता है। आँखों से संबंधित समस्याओं का समय पर निदान और इलाज के बारे में जागरुकता बहुत ज़रूरी है। दिल्ली स्थित सेंटर फॉर साइट के मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर रतन पुरोहित ने बताया कि, “बदलती जीवनशैली और सभी आयु वर्ग के लोगों द्वारा गैजेट्स के अत्यधिक इस्तेमाल के कारण आँखों की समस्याएं बढ़ती जा रही हैं। धुंधलापन, रूखी आँखें, आँखों से पानी आना आदि जैसे लक्षणों को अक्सर अनदेखा कर दिया जाता है, जिसके कारण समस्या और बढ़ती है।आंखों और सिर में भारीपन, आंख में जलन होना, उसमें खुजली होना,  पास की चीजें देखने में दिक्कत होना, रंगों का साफ दिखाई न देना में से कोई भी लक्षण महसूस हो शीघ्र ही डॉ से परामर्श करें।  यदि इनका इलाज समय पर किया जाए तो अंधेपन को कम किया जा सकता है। 


डब्ल्यूएचओ की हालिया रिपोर्ट के अनुसार, विश्व की 3.6 करोड़ आबादी अंधेपन का शिकार है और 21.6 करोड़ से ज्यादा लोगों को देखने की समस्या है जिसका इलाज संभव है।  पीड़ित के जीवन को प्रभावित करने के अलावा ये समस्याएं देश के सामाजिक और आर्थिक विकास को भी प्रभावित कर रही हैं। डायरेक्टर  महिपाल सिंह सचदेवा  ने आगे बताया कि “टेक्नोलॉजी में प्रगति के साथ परिणाम लगातार बेहतर हो रहे हैं, लेकिन समस्या सिर्फ यह है कि इसे सभी तक पहुंचाया कैसे जाए। इसलिए अपनी आँखों की सुरक्षा के महत्व को समझते हुए लोगों को कम से कम 1 साल में अपनी आँखों का सामान्य चेकअप कराना चाहिए।