एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स ने डॉ राजू वैश्य को किया सम्मानित
September 9, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार, बुधवार  9 सितम्बर 2020, नई दिल्ली। डॉ (प्रोफेसर) राजू वैश्य, सीनियर कन्सलटेन्ट, आर्थोपेडिक्स एण्ड जॉइन्ट रिप्लेसमेन्ट, इन्द्रप्रस्थ अपोलो होस्पिटल्स को एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स द्वारा चिकित्सा क्षेत्र में उनके साहित्यिक योगदान के लिए सम्मानित किया गया है। उन्हें 3 महीने और 20 दिन की छोटी सी अवधि में कोविड-19 महामारी पर अधिकतम 40 लेखों के प्रकाशन के लिए एशियाई रिकॉर्ड बनाने हेतु सम्मानित किया गया है। वे कुल 138 वैज्ञानिक दस्तावेज, अध्याय और ब्लॉग लिख चुके हैं।
कुछ जानी-मानी पत्रिकाओं जैसे ब्रिटिश मेडिकल जर्नल, जर्नल ऑफ अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन और जर्नल ऑफ बोन एण्ड जॉइन्ट सर्जरी में डॉ वैश्य के लेख प्रकाशित किए हुए हैं। ये लेख कई महत्वपूर्ण विषयों पर लिखे गए हैं जैसे ट्रॉमा और आर्थोपेडिक्स में रिमोट कन्सल्टिंग रणनीतियां, कोविड-19 महामारी के दौरान भारत में स्वास्थ्य सेवा कर्मियों की दुर्दशा, कोविड-19 महामारीके दौरान इलेक्टिव सर्जरी आदि।


कोविड सम्बन्धी मुद्दों पर अनुसंधान एवं प्रकाशन में उनका योगदान उल्लेखनीय है और संभवतया भारतीय वैज्ञानिकों और चिकित्सकों में सबसे विशिष्ट है। 138 लेखों में से 75 लेख कोविड-19 से संबंधति हैं और चिकित्सकीय प्रबंधन, चिकित्सा विज्ञान में आधुनिक तकनीकों जैसे बायोसेंसर, आर्टीफिशियल इंटेलीजेन्स, आईओटी पर चर्चा करते हैं। इसके अलावा उनके लेख कई अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर रोशनी डालते हैं जैसे कोविड-19 के दौर में सर्जरी के लिए मार्गदर्शन, टेलीचिकित्सा का प्रभावी उपयोग तथा कोविड के इस दौर में गैर-संचारी रोग।
विश्वविख्यात शोधकर्ता और अकादमिकज्ञ डॉ वैश्य पिछले 30 सालों से चिकित्सा अनुसंधान के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान दे रहे हैं। आर्थोपेडिक्स एवं जॉइन्ट रिप्लेसमेन्ट में उनके योगदान को चार बार प्रतिष्ठित लिमका बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज किया जा चुका है और विभिन्न चिकित्सा पत्रिकाओं में 400 से अधिक प्रकाशनों का श्रेय उन्हें जाता है। हर साल, एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले पेशेवरों को सम्मानित करती है। चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में डॉ राजू वैश्य भारत के टॉप 10 डॉक्टरों में से हैं, जिन्हे इस पुरस्कार के 2020 संस्करण से सम्मानित किया गया है।