एप ट्रेडिंग के लिए क्विक गाइड : रोहित अंबोस्ता
March 20, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार शनिवार 20 मार्च 2020 नई दिल्ली। पहले, स्टॉक खरीदने या बेचने के लिए स्टॉक ब्रोकर को फोन करना पड़ता था, जो ट्रेड एग्जीक्यूट करने के लिए कुछ फीस लेता था। लेकिन, आज भारत मोबाइल आधारित स्टॉक ट्रेडिंग का लाभ उठा रहा है। कोई ग्राहक अपने पसंदीदा ब्रोकर मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से स्वयं ट्रेड कर सकता है। ये ब्रोकिंग एप ग्राहकों को ट्रेड के विभिन्न प्रकार विकल्प मुहैया कराते हैं। उदाहरण के लिए कुछ ऑटोमेटेड ट्रेडिंग करवाते हैं, कुछ ट्रेडिंग की शुरुआत करने वालों को बेसिक ट्रेनिंग देते हैं, जबकि कुछ प्रोफेशनल ट्रेडर के लिए एडवांस फंक्शन देते हैं। यह सब कुछ बस कुछ क्लिक मंस उपलब्ध होता है। इसकी अधिक जानकारी के लिए मिलते हैं रोहित अंबोस्ता, एसोसिएट डायरेक्टर व चीफ इंफॉर्मेशन ऑफिसर, एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड से और जानते हैं मोबाइल एप ट्रेडिंग के लिए कुछ सुझावों पर चर्चा करें :


प्रश्न 1 : ब्रोकर के बारे में पूरी रिसर्च करें
रोहित अंबोस्ता : इंटरनेट और अनुभवी ट्रेडर की मदद से अपनी स्वयं की रिसर्च करें। अनुभवी निवेशक/ट्रेडर के सुझावों पर गौर करें, लेकिन कभी भी आंख मूंदकर भरोसा न करें। स्टॉकब्रोकर के बैकग्राउंड, छवि, अकाउंट ओपनिंग चार्जेस, छुपे हुए चार्जेस, अन्य सुविधाओं आदि के बारे में जानकारी प्राप्त करें।
प्रश्न 2 : मोबाइल एप के फीडबैक चेक करें
रोहित अंबोस्ता : जब एक बार आप ब्रोकर का चयन कर लें तो इसके बाद उनके मोबाइल एप के बारे में पता करें। एप स्टोर में एप के रिव्यू और रेटिंग के आधार पर निर्णय करें।
प्रश्न 3 : सुनिश्चित करें कि एप उपयोग करने में आसान और सुरक्षित है
रोहित अंबोस्ता : जब आप ब्रोकिंग एप का चयन करें तो यह समझना आवश्यक है कि यह ट्रेडिंग को आसान बनाने के लिए काम कैसे करता है। इसके अलावा सुनिश्चित करें कि एप डाउनलोड वेरिफाइड और सुरक्षित हो, ताकि जानकारी का कोई दुरुपयोग या पैसे की हेर-फेर न हो सके।
प्रश्न 4 : ब्रोकर की कस्टमर सर्विस क्वालिटी के बारे में भी रिसर्च करें
रोहित अंबोस्ता : एप के माध्यम से ब्रोकिंग में यह बहुत महत्वपूर्ण चरण है। किसी भी तकनीकी समस्या या अन्य समस्याओं के जल्द निराकण के लिए सपोर्ट टीम की उपलब्धता कैसी है, सुनिश्चित करें। 
प्रश्न 5 : सुनिश्चित करें कि आपके फोन में इंटरनेट कनेक्टिविटी अच्छी हो
रोहित अंबोस्ता : इंटरनेट स्पीड कम होने के कारण आपको एप में रियल टाइम डेटा नहीं मिल पाएगा और इससे आपकी ट्रेडिंग प्रभावित होगी। ट्रेडिंग के लिए अच्छी इंटरनेट स्पीड और स्थायी कनेक्शन जरूरी है, ताकि आप शेयर खरीदने या बेचने के बारे में जल्द निर्णय ले सकें।