दो - दो फिल्मों से जिफ का आगाज़ और समापन
January 1, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार बुधवार 01 जनवरी 2020 जयपुर। वर्ष 2020 की भव्य शुरुआत या यूं कहें सिनेमाई आगाज़ होने को है। पांच दिनों तक सिलसिलेवार दुनिया भर से आई फिल्मों का प्रदर्शन, संवाद, चर्चाएं और सिनेमाई जगत् से जुड़ा बहुत कुछ होने जा रहा है। अपनी ख़ास पहचान स्थापित कर चुके जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल [जिफ] 2020 का भव्य शुभारम्भ होने जा रहा है और गुलाबी नगरी ही नहीं, विश्व भर के सिनेप्रेमियों में इसे लेकर अति उत्साह और रोमांच है। जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ट्रस्ट और आर्यन रोज़ फाउण्डेशन की ओर से आयोजित जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल [ जिफ] का आगाज़ इस वर्ष 17 से 21 जनवरी को आयनॉक्स सिनेमा हॉल, जी.टी. सेन्ट्रल में होने जा रहा है। वहीं, जिफ 2020 की ओपनिंग सेरेमनी 17 जनवरी को महाराणा प्रताप ऑडिटोरियम में शाम पांच बजे से होगी, जहां फेस्टिवल की ओपनिंग फिल्मों का प्रदर्शन होगा।


डॉक्यूमेंट्री फिल्म अमेरीकन मिरर: इंटीमेशंस ऑफ इमॉर्टेलिटी से उठेगा जिफ 2020 का पर्दा
सफलता के नए प्रतिमानों के साथ, अपने 12वें वर्ष में प्रवेश कर रहे जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल 2020 को बहुत ख़ास बनाने जा रही हैं इसकी ओपनिंग और क्लोज़िंग फिल्में। यह पहली बार होगा, जब किसी फिल्म फेस्टिवल का पर्दा एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म के प्रदर्शन से उठेगा। यह फिल्म होगी - अमेरीकन मिरर: इंटीमेशंस ऑफ इमॉर्टेलिटी।
अमेरीकन मिरर: इंटीमेशंस ऑफ इमॉर्टेलिटी एक घण्टे 2 मिनट की डॉक्यूमेंट्री और एक्सपेरिमेंटल फिल्म है, जो आर्थर बाल्डर के निर्देशन में बनी है। यू.एस. में बनी यह फिल्म आज की ज़िंदगी की क्रूर सच्चाईयों से दर्शकों को रूबरू करवाएगी। लगभग एक घण्टे लम्बी इस फिल्म में दिखाया गया है कि किस तरह हम सब फेसबुक – इंस्टाग्राम पर अपनी उजली लेकिन झूठी ज़िंदगियां परोस रहे हैं, जबकि हम भीतर पैठे सच और खूबसूरती को पूरी तरह भुलाते जा रहे हैं। फिल्म दिखाती है कि किस तरह हम ख़ुद को और दूसरों को सोशल मीडिया पर देखते हैं, जहां परफेक्ट ब्यूटी और इंस्टेंट ग्रेटिफिकेशन की मांग है।
ऑस्कर विजेता सूजैन सैरनडॉन के अभिनय से सजी है फिल्म
फिल्म का विषय तो ख़ास है ही, वहीं फिल्म की एक खूबी यह भी है कि यह सूजैन सैरनडॉन के अभिनय से सजी है, जो अब तक चार फिल्मों के लिए ऑस्कर अवॉर्ड्स के लिए नॉमिनेट हुई हैं, वहीं एक फिल्म के लिए ऑस्कर भी जीत चुकी हैं। वहीं, फिल्म भी अपने प्रासंगिक विषय के चलते कई विख्यात अवॉर्ड्स अपने नाम कर चुकी है।
राजस्थान की धरोहर को बयां करती फिल्म चीड़ी बल्ला से होगी जिफ की शुरुआत
जिफ 2020 की दूसरी ओपनिंग फिल्म रहेगी चीड़ी बल्ला। राजस्थानी में बनी इस फिल्म का ओपनिंग फिल्म बनना राजस्थान के वासियों के लिए किसी खुशखबरी से कम नहीं है। राजस्थानी भाषा में बनी एक घण्टे 51 मिनट की यह फीचर फिल्म राजस्थान की कला, खेल और संस्कृति की ख़ासियत बताती हुई आगे बढ़ती है।
राधेश्याम पिपलवा निर्देशित चीड़ी बल्ला [स्मैश] फतेहपुर की शेखावाटी हाई स्कूल में पढ़ रहे भगत के बारे में है, जिसे किसी तरह अपने स्कूल को बंद होने से बचाना है। स्कूल को बचाने का एक ही रास्ता है – बैडमिंटन के राज्य स्तरीय टूर्नामेंट में हिस्सा लेना और जीतना। घर – मोहल्ले की गलियों में बिना किसी साधन के चीड़ी – बल्ला खेलने वाले भगत के सामने चुनौती है कि वह राज्य स्तर के बैडमिंटन टूर्नामेंट में अपने स्कूल को जिता सके। अब देखना यह है कि क्या भगत बिना किसी ट्रेनिंग और कोच की मदद के यह मैच जीत सकेगा और अपने स्कूल की प्रतिष्ठा को बचा सकेगा?