दिल्ली में केजरीवाल है तो मौत दूर नहीं : मुकेश जैन
May 18, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार, सोमवार 18 मई 2020, नई दिल्ली। धर्म रक्षक श्री दारा सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री मुकेश जैन की अध्यक्षता में सामाजिक दूरी बनाकर की गयी हिन्दू संगठनों की बैठक में बताया गया कि हजार, 2 हजार, 10 हजार मौतो से पीछा छुट जाये तो समझ लो हम कोरोना महामारी से बच गये। महामारी का मतलब करोड़ो लोगों का मारा जाना। 


बैठक में दारा सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री मुकेश जैन ने बताया कि 100 साल पहले भारत में प्लेग फैला था तो 12 करोड़ हिन्दुस्तानी मारे गये थे। जो लोग केजरीवाल जैसे नक्सली देशद्रोही के बहकावे में आकर कोरोना को हल्के में ले रहे हैं। प्रवासी मजदूरों के प्रति बहुत मिलाप और संवेदना  दिखा रहे हैं, खास तौर से देशद्रोही केजरीवाल के नक्सली ईसाई आतंकवादी गैंग के राघव चड़़्ढा और उसके मीडिया वाले। देखों-देखों मजदूरों की दयनीय हालत, सड़को पर नंगे पैर। बच्चों को बैग पर खींच रहे हैं। मजदूरों ने 3 दिन से खाया नहीं। पैर में छाले पड़ गये। रमजान में मस्जिद बन्द है। उन्हें समझना चाहियें कि तालाबन्दी टूटेंगी तो लाशों के ढेर लग जायेंगे। इसी के साथ उनकी गांव में जाने की जल्दी के कारण गांव में मुर्दो को जलाने वाले भी नहीं मिलेंगे। लाशों के ढेर लगे, यही ये देशद्रोही गैंग चाहता है।
श्री जैन ने कहा कि कुछ लोग सोच रहे हैं कि यह देशद्रोही नक्सली टुकड़े-टुकड़े गैंग मजदूरों पर तरस खा रहा है, उन्हें समझना चाहिये कि इन अमेरीकी सी आई ए के पाले ईसाई मिश्निरी गैंग के नक्सलवादी कम्युनिस्टो और देशद्रोहियों को चिन्ता है कि कोरोना ने भारत में अभी विकराल रूप क्यों नहीं लिया ? देशद्रोही केजरीवाल तैयार बैठा है डीटीसी की बसे और मैट्रो चलाने के लिये। बिना केन्द्र सरकार की अनुमति के अपने देशद्रोही मंसूबों को अपने जर खरीद देशद्रोही दिल्ली आजतक जैसे चैनलों पर प्रसारित करके दिल्ली के प्रवासियों को भड़का कर कोराना फैलाने के लिये।
श्री जैन ने कहा कि हमें चीन से सबक लेना है जिसने 75 दिन का लाक डाउन सख्ती से करके कोरोना पर विजय पायी। चीन में जो भी लाक डाउन में सड़क पर दिखे पुलिस ने उन्हे दबा कर डंडे मारे। सुबह से लेकर शाम तक मुर्गा बनाया। आज भारतवासियों की जान की सुरक्षा के लिये उन्हें कड़वी दवाई देना बहुत जरूरी है। केन्द्र सरकार को दिल्ली को कोरोना राजधानी बनाने वाले देशद्रोही खूंखार नक्सली ईसाई आतंकवादी केजरीवाल को तो डन्डे मार - मार कर दिल्ली से अमेरीका फिर से सी आई ए के नक्सली ईसाई आतंकवाद की ट्रेनिंग लेने भेज देना चाहिये। क्योंकि इन कोरोना फैलाने वाले देशद्रोहियों द्वारा दिल्ली के आनन्द बिहार और मुम्बई के बान्द्रा में जिस प्रकार से लाक डाउन तुड़वाया उस बिगड़े हालातों के कारण ही आज लाॅकडाउन बार- बार बढ़ाना पड़ रहा है। 


श्री जैन ने केजरीवाल को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि दिल्ली में केजरीवाल है तो मौत दूर नहीं। देश की 130 करोड की आबादी में 90 हजार कारोना मरीज है यानि 1 करोड़ पर साढ़े छः सौ । जबकि दिल्ली में 1 करोड़ पर 5 हजार कोरोना मरीज है । दिल्ली बचानी है तो केजरीवाल की कोरोना रसोई का खाना केजरीवाल सहित उसके मां-बाप और बीबी-बच्चों को खिलाना शुरू कर दो 3 दिन में ही केजरीवाल सपरिवार लुढ़क जायेगा और दिल्ली बच जायेगी।
श्री जैन ने कहा कि केन्द्र सरकार दिल्ली बचाने के लिये वो कदम उठाये जो योगी जी उठा रहे हैं । जो चीन ने वुहान में किया। केन्द्र सरकार दिल्ली के कूड़े के पहाड़ में आग लगाकर वातावरण में जीवाणुनाशक गंधक की मात्रा 1350 माइक्रो गाम प्रति घन मीटर करके चीन के वुहान की तरह दिल्ली को बचा सकती है। आंकडे गवाह हैं कि कूड़ा और पटाखे छुड़ाने से कोई प्रदूषण नहीं फैलता और न ही कोई ऐसा कानून है जो कूड़ा जलाने, पराली जलाने, पत्तियां  जलाने और पटाखें छुड़ाने पर रोक लगाता है। 
हिन्दू संगठनों ने सरकार को चेताया कि अनपढ़ ग्वार मजदूरों को तो पता नहीं कि कोरोना से कैसे निपटा जाये। न ही मुसलमानों को पता है कि छुआछूत और सच्चा झूठा खान-पान क्या होता है। शौच के बाद राख या साबुन से हाथ धोना क्यों जरूरी है। पर केन्द्र सरकार को तो पता है। फिर केन्द्र सरकार को वो कदम उठाने हैं जिससे देश सुरक्षित रहे। उसके लिये केन्द्र सरकार को घर से बाहर निकलने वालों को उकसा रहे 10 - 12 देशद्रोही मीडिया गिरोह वालों को भले ही गोली मारनी पड़े किन्तु सौ साल पहले की तरह 12 करोड़ हिन्दुस्तानियों को हमें किसी भी हालत में मरने नहीं देना है। 130 करोड़ हिन्दुस्तानियों को महामारी से मरने से बचाने के लिये 10 - 12 रवीश कुमार, राजदीप सर देसाई, अंजना ओम कश्यप, बरखा दत्त, प्रणव राय, अजय कुमार जैसे सी आई ए के ऐजेन्ट मीडिया वालों को और इनके सिपहसालार नक्सली मिश्निरी केजरीवाल गैंग के राघव चड्ढा और प्राईवेट न्यूज ब्रोड कास्टिंग स्टैंडर्ड अथोर्टी के ए के सीकरी सरीखे देशद्रोहियों को केन्द्र सरकार जरूर गोली से मारे। यह बहुत जरूरी है।