डिजिटल मीडिया पर प्रभासाक्षी की परिचर्चा में बड़े-बड़े राजनीतिज्ञ और पत्रकारों ने किया मंथन
November 20, 2019 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार बुधवार 20 नवंबर 2019 नई दिल्ली। डिजिटल मीडिया पर हिन्दी और क्षेत्रीय भाषाओं का प्रभुत्व भले बढ़ा रहा हो लेकिन इस न्यू मीडिया मंच ने पत्रकारिता का जो स्वरूप बदला है और नई चुनौतियाँ आम पाठक, राजनीतिक दलों और सरकारों के समक्ष खड़ी की हैं वह चिंताजनक भी है। भारत के प्रमुख हिन्दी समाचार पोर्टल प्रभासाक्षी की 18वीं वर्षगाँठ पर 'डिजिटल मीडिया पर राष्ट्रभाषा हिंदी और क्षेत्रीय भाषाओं की बढ़ती भूमिका' विषय पर एक परिचर्चा का आयोजन 8 नवंबर 2019 को सायं 4 बजे से नयी दिल्ली के कांस्टीट्यूशन क्लब में किया गया जिसमें कई वरिष्ठ राजनीतिज्ञों, मीडिया जगत की जानीमानी हस्तियों, विभिन्न राज्यों के लेखकों/पत्रकारों और बड़ी संख्या में पत्रकारिता के छात्रों आदि ने भाग लिया। इस दौरान कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्वलन के साथ हुआ।

प्रभासाक्षी के संपादक नीरज कुमार दुबे द्वारा आमंत्रित किए जाने के बाद जदयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव रंजन, आईआईएमसी के डीजी केजी सुरेश, माखनलाल चतुर्वेदी के प्रो. संजय द्विवेदी और हेमंत तिवारी ने की। जिसके बाद कार्यक्रम की शुरुआती और परिचर्चा पूर्व सांसद और वरिष्ठ पत्रकार तरुण विजय ने की ओर से किया गया। इसके बाद जेडीयू के वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव रंजन ने अपना वक्तव्य पेश करते हुए कहा कि आपने जनता दल यूनाइटेड जैसी छोटी पार्टी को आमंत्रित किया उसके लिए मैं आपका आभार व्यक्त करता हूं। डिजिटल मीडिया की जिम्मेदारियां, चुनौतियों के बारे में बात करते हुए प्रभासाक्षी की रिपोर्टिंग की तारीफ भी की। बीजेपी नेत्री शाजिया इल्मी ने प्रभासाक्षी की 18वीं वर्षगाँठ पर कहा कि प्रभासाक्षी की हम बहुत इज्जत करते हैं, क्योंकि 18 सालों तक एक भाषा की सेवा करना एक बड़ी बात है। इसी बीच उन्होंने पुराने प्रसंग का जिक्र करते हुए कहा कि एक तरफ शाजिया इल्मी दूसरी तरफ दो पैनलिस्ट थे, वो भारतीय ही थे, लेकिन वो भारत में मानवाधिकार की बात कर रहे थे। टीवी चैनल वाले उसे देते हैं 28 मिनट और मुझे 30 सेकेंड। तो मैं इसी तरह की मिलावट की बात कर रही थी। सबसे बड़ा चैलेंज है अंदर की सोच को न लाना। आपको अपनी सोच से आगे चलना है। जो कुछ भी लिखें, पढ़ें या सोचें उसके बारे में गौर करें। इस कार्यक्रम में आगे उत्तर प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य राज्य मंत्री अतुल गर्ग ने प्रभासाक्षी की 18वीं वर्षगांठ पर आभार व्यक्त किया और कहा कि राजनाथ जी और जनरल वीके सिंह का चुनाव संयोजक रहा फिर खुद भी चुनाव लड़ लिया और मंत्री बना दिया गया। मिलावट की बात है तो राजनीतिक लोग पब्लिक से वोट लेना चाहते हैं तो पब्लिक का पर्सेपशन हमें बनाना है। वामपंथी विचारधारा पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि मुझे कोई विचारधारा नजर नहीं आती। इसी के साथ उन्होंने एनआरसी एक्ट का भी जिक्र किया और निर्भया कांड पर कानून बनाए जाने के लिए अपने सरकार की भी तारीफ की। 
आज के दौर में देखने को मिल रहा है कि डिजिटल मीडिया पर हिन्दी और क्षेत्रीय भाषाओं का प्रभुत्व भले बढ़ा रहा हो लेकिन इस न्यू मीडिया मंच ने पत्रकारिता का जो स्वरूप बदला है और नई चुनौतियाँ आम पाठक, राजनीतिक दलों और सरकारों के समक्ष खड़ी की हैं वह चिंताजनक भी है। इस परिचर्चा का आयोजन भी इसलिए किया गया है कि एक सार्थक मंथन से जो अमृत निकले वह हमारे लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ को और मजबूत करे।
कार्यक्रम की विशेषताएँ
•  प्रभासाक्षी ने देशभर में लोकसभा चुनावों की कवरेज के दौरान इस बात की भी पड़ताल की थी कि किस राजनीतिक दल की कौन-सी प्रदेश इकाई सबसे तीव्र और अलग अंदाज में सोशल मीडिया के जरिये मीडिया को अपडेट्स भेजती है। भारतीय जनता पार्टी की सभी प्रदेश इकाइयों के ग्रुपों में दी जानी वाली जानकारी का विश्लेषण करने पर हम इस निष्कर्ष पर पहुँचे कि पश्चिम बंगाल भाजपा इकाई सबसे तीव्र गति से और सबसे अधिक जानकारीपूर्ण अपडेट्स भेजने के मामले में प्रथम स्थान पर है। इसी तरह कांग्रेस के भीतर कर्नाटक इकाई मीडिया अपडेट्स के मामले में शीर्ष पर रही। भाजपा और कांग्रेस की इकाइयों को इस कार्यक्रम में पुरस्कृत किया गया। भाजपा की ओर से पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष और मीडिया विभाग के प्रमुख सप्तऋषि चौधरी ने यह पुरस्कार ग्रहण किया। कांग्रेस की ओर से पार्टी के राष्ट्रीय सचिव प्रणव झा ने यह पुरस्कार ग्रहण किया।
•   इसके अलावा प्रभासाक्षी ने लोकसभा चुनावों के दौरान यह भी परखा कि किस प्रदेश का नयी दिल्ली स्थित सूचना केंद्र सर्वाधिक सार्थक और तीव्र गति से मीडिया अपडेट्स भेजता है। इस मामले में दिल्ली स्थित महाराष्ट्र सूचना केंद्र अग्रणी रहा। सूचना केंद्र के उप-निदेशक दयानंद कांबले ने यह पुरस्कार ग्रहण किया।
•    इसके अलावा कार्यक्रम में देशभर के 12 उन लेखकों और पत्रकारों को 'हिंदी सेवा सम्मान' से सम्मानित किया गया जोकि सार्थक और तथ्यपरक लेखों के माध्यम से जागरूकता फैलाने का काम कर रहे हैं।
•   प्रभासाक्षी ने लोकसभा चुनाव 2019 की विस्तृत कवरेज के लिए दो माह से ज्यादा का समय देश के विभिन्न भागों में बिताया था। उस दौरान के अनुभव और रिपोर्टों पर संपादक नीरज कुमार दुबे द्वारा एक पुस्तक भी लिखी गयी जिसका कार्यक्रम में विमोचन किया गया।