डीडीआरडबल्यूए की महिला सुरक्षा को लेकर डीसीपी वृन्दा शुक्ला से हुई ऑनलाइन बैठक 
September 13, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार, रविवार  13 सितम्बर 2020, नॉएडा। डीडीआरडबल्यूए के संयोजन में महिला सुरक्षा को लेकर डीसीपी महिला सुरक्षा वृन्दा शुक्ला के साथ एक ऑनलाईन बैठक आयोजित की गई जिसमें नोएडा , ग्रेटर नोएडा आरडबल्यूए के पदाधिकारियों के अलावा विभिन्न सामाजिक संगठनों से जुड़े लोगों ने हिस्सा लिया। इस बैठक में महिलाओं की सहभागिता काफी रही। डीडीआरडबल्यूए के मीडिया प्रभारी राघवेंद्र दुबे ने बताया कि एनपी सिंह की अध्यक्षता में हुई बैठक का संचालन उपाध्यक्ष संजीव कुमार द्वारा किया गया जिसमें महिलाओं द्वारा एवं आरडबल्यूए पदाधिकारियों द्वारा महिला सुरक्षा से जुड़े तमाम प्रमुख मुद्दे उठाये गए । सभी ने कहा कि कोरोना महामारी के समय घरेलू हिंसा में इजाफा हुआ है जिसका प्रमुख कारण आर्थिक परेशानी और बेरोजगारी भी है। महिलाओं के साथ हिंसा का बड़ा कारण अपने अधिकारों की अनभिज्ञता भी है इसके लिए गांव व सेक्टरों में चौपाल लगाकर उन्हें जागरूक किया जाए साथ ही उन्हें विशवास दिलाया जाए कि महिला पुलिस उनके साथ है। अधिकतर सेक्टरों की ग्रीन बेल्ट शराबियों और नशेड़ियों का अड्डा बना हुआ है ऐसे लोग आती जाती महिलाओं पर अश्लील टिप्पणियां करते है ऐसी जगह पुलिस की सख्ती हो। पिंक ऑटो जो महिलाओं के लिए निर्धारित हैं उसमें पुरुष भी बैठ जाते है जिससे महिलाओं के साथ अभद्रता होती है। चौकी या थाने  पर कोई शिकायत की जाती है तो पुलिस द्वारा उसे सार्वजनिक ना किया जाए उसकी निजता बनी रहे। छोटी बच्चियां जो कोठी, फार्महाउस में काम करती हैं उनमें कई के साथ मारपीट की जाती है लेकिन डर से कोई कुछ नहीं कहता। अध्यक्ष एनपी सिंह ने कहा कि हर सेक्टर और गांव से पांच महिलाओं को जोड़ा जाए जिन्हें महिला पुलिस मित्र का नाम दिया जाए यह महिलाएं अपने यहां होने वाली घटनाओं की जानकारी देंगी जिससे महिला अपराध पर अंकुश लग सकेगा।


डीसीपी वृन्दा शुक्ला ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए स्वयं सिद्धा टीम का गठन किया गया है उनकी तैनाती भीड़ भाड़ वाले इलाके में रहती है इसके अलावा अगर कहीं शराब पी जा रही हो तो व्हाट्सएप एवं अन्य माध्यमों से सूचना या फीडबैक भी दे सकते हैं।शिकायत के लिए हर थाने में महिला सुरक्षा डेस्क है अगर कोई प्रतिनिधि फिर भी इगनोर करता है तो उसके खिलाफ कार्यवाई होगी। चौकी जहां महिला कांस्टेबल नहीं है वहां व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने शिकायत व जानकारी देने के लिए व्हाट्सएप नम्बर 9870395200 जारी किया। शिकायत कर्ता की जानकारी गुप्त रखी जायेगी। घरेलू हिंसा को रोकने के लिए पुलिस काउंसिलिंग भी करा रही है । काउंसिलिंग के लिए ग्रेटर नोएडा में एफडीआरसी( फेमिली डिस्प्यूट रेसोल्यूशन सेंटर ) बनाया गया है । महिला सुरक्षा चौपाल भी जगह जगह लगाकर महिलाओं को जागरूक किया जाएगा।
इस अवसर पर फोनरवा के संस्थापक अध्यक्ष सुशील अग्रवाल, डीडीआरडबल्यूए के महासचिव शेर सिंह भाटी, राजेन्द्र शुक्ला, विमल शर्मा,अनीता पांडेय, गिरिजा सिंह, शारदा चतुर्वेदी, अंजलि सचदेवा,ईलम सिंह नागर, सोनिया शर्मा, प्रज्ञा शर्मा, सुमिता दास, मनु भुल्लर, पल्लवी त्रिपाठी, गायत्री तिवारी, रश्मि पांडेय, प्रीति सिंह, डॉ सुमित्रा जेटली, अनीता , रेखा चौहान, मंतेश, मधु मेहरा, नेफोमा अध्यक्ष अन्नू खान, अतेंद्र चौहान, सीमा रावत, कन्हैयालाल अवाना, लोकेश कश्यप, मनिंदर सिंह, हरीश वर्मा, सुभाष चौहान, एसपी सिंह, शंकर झा, आलोक सिंह, अनीता निगम, रेखा चौहान, प्रिया सिंह सहित तमाम लोगों ने हिस्सा लिया।