दारा सेना गन्धक जलाओं, पटाखें छुडाओं, कोरोना भगाओं अभियान के तहत गंधक मुफ्त बांटेगी
March 26, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार शुक्रवार 27 मार्च 2020 नई दिल्ली। हिन्दू संगठनों ने अखिल भारत हिन्दू महासभा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री चन्द्र प्रकाश कौशिक जी के नेतृत्व में फैसला लिया है कि हमें 130 करोड़ हिन्दुस्तानियों को कोरोना महामारी से बचाना है। इसके प्रथम चरण में हिन्दू संगठनों द्वारा दिल्ली और ओडिशा के हर घर को कोरोना जीवाणु से मुूक्त करने के लिये 5-10 ग्राम गंधक जलाने के लिये मुफ्त दी जायेगी।  हिन्दू संगठनों द्वारा चलाये जा रहे गन्धक जलाओं- पटाखें छुडाओं- कोरोना भगाओं अभियान की सफलता के लिये कफ्र्यू पास बनवाने के लिये हिन्दू संगठनों ने प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी और केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री श्री हर्षवर्धन जी से भी अनुरोध किया है।

हिन्दू संगठनों द्वारा चलाये जा रहे गन्धक जलाओं- पटाखें छुडाओं- कोरोना भगाओं अभियान पर प्रकाश डालते हुए दारा सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री मुकेश जैन ने बताया कि दिनांक 24-3-20 को हमने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी और केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री श्री हर्षवर्धन जी को ज्ञापन दिया था। जिसमें हमने भारत को कोराना मुक्त करने के लिये भारत सरकार से वो ही उपाय अपनाने के लिये कहा था जो चीन ने हाल ही में अपनाये। अर्थात जैसे चीन ने कोरोना ग्रस्त शहर वुहान और चोंगक्किग में सल्फर डाई आक्साइड की मात्रा 1350-1700 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर बढ़ाई, वैसे ही भारत भी यहां के कोरोना ग्रस्त शहरों में गंधक की गैस सल्फर डाई आक्साइड मात्रा बढ़ायें। श्री मुकेश जैन जो आई आई टी रूड़की से शिक्षा प्राप्त धातुकर्म अभियन्ता भी है ने इस बारे में बताया कि सैकड़ों सालों से पूरे संसार में गंधक को जलाकर ही महामारी पर काबू पाया जा रहा हैं। अभी दिल्ली में सल्फर डाई आक्साइड 1-3 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर है जो कि सरकार केन्द्रीय प्रदूषण नियन्त्रण बोर्ड द्वारा निर्धारित मात्रा से 80 गुण कम है। और विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा निर्धारित 500 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर से 250 से 500 गुना कम है।हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री चन्द्र प्रकाश कोशिक जी ने कहा कि हम सरकार को पिछले 4 साल से लगातार लिख रहे थे कि सी आई ए के साजिश के तहत दीवाली के पटाखें, पराली, फर्नेश आयल और कूड़ान् पत्तियां जलाने पर रोक लगाकर सर्वोच्च न्यायालय के जज वातावरण से गंधक की मात्रा कम करके साजिशन 130 करोड़ हिन्दुस्तानियों को महामारी फैला कर मारना चाहते हैं। इस मामले में तत्कालीन केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री को भी कई ज्ञापन दिये गये थे। जिस पर गौर न करने के कारण आज पूरा भारत संकट में पड़ गया।