भारतीय इस्‍पात संघ की ओर से ‘आईएसए-इस्‍पात सम्‍मेलन 2019’ का आयोजन 21 नवम्‍बर से
November 19, 2019 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार मंगलवार 19 नवंबर 2019 नई दिल्ली। भारत सरकार के इस्‍पात मंत्रालय के सहयोग से भारतीय इस्‍पात संघ 21-22 नवम्‍बर, 2019 को नई दिल्‍ली में 'आईएसए-इस्‍पात सम्‍मेलन 2019' का दूसरा संस्‍करण आयोजित करने जा रहा है। इस सम्‍मेलन में इस्‍पात उद्योग के भारतीय और वैश्विक परिप्रेक्ष्य पर विचार-विमर्श किया जाएगा। केन्‍द्रीय इस्‍पात मंत्री श्री धर्मेन्‍द्र प्रधान इस सम्‍मेलन में मुख्‍य अतिथि होंगे। इस्‍पात राज्‍य मंत्री श्री फग्‍गन सिंह कुलस्‍ते भी इस अवसर पर उपस्थित होंगे। सम्‍मेलन के दौरान नवाचार एवं प्रौद्योगिकी, निर्माण एवं डिजाइन में इस्‍पात की भूमिका, इस्‍पात निर्यात, पूंजीगत सामान, पर्यावरणीय प्रबंधन और अन्‍य ज्‍वलंत मुद्दों पर वरिष्‍ठ औद्योगिक हस्तियों, सरकार के प्रतिनिधियों और सलाहकारों के बीच गहन चर्चाएं होंगी।
श्री धर्मेन्‍द्र प्रधान ने आईएसए को भेजे अपने संदेश में कहा है, हम कैलेंडर वर्ष 2019 के समापन की ओर धीरे-धीरे बढ़ रहे हैं, अत: इसे ध्‍यान में रखते हुए पूरे वर्ष के घटनाक्रमों के साथ-साथ इस्‍पात उद्योग की प्रमुख उपलब्धियों पर गौर करना बिल्‍कुल उपयुक्‍त होगा। हमने विश्‍व का दूसरा सबसे बड़ा इस्‍पात उत्‍पादक बनने की ऐतिहासिक उपलब्धि के साथ वर्ष का शुभारंभ किया था।' उन्‍होंने यह भी कहा कि प्रमुख इस्‍पात कंपनियों और अन्‍य कॉरपोरेट घरानों ने कॉरपोरेट टैक्‍स के साथ-साथ नई विनिर्माण इकाइयों पर देय कर में की गई उल्‍लेखनीय कटौती की व्‍यापक सराहना की है। श्री प्रधान ने उम्‍मीद जताई कि घरेलू और विदेशी इस्‍पात कं‍पनियां भारत में नया निवेश करने और इस्‍पात उत्‍पादन क्षमता में बढ़ोतरी के लिए इस अवसर का व्‍यापक उपयोग करेंगी।