भारत में ऑटो रेंटल लॉन्च करने वाली ऊबर पहली राईड शेयरिंग कंपनी बनी
August 27, 2020 • Daily Shabdawani Samachar

शब्दवाणी समाचार, वीरवार 27 अगस्त 2020, नई दिल्ली। ऊबर भारत में 24/7 ‘ऑटो रेंटल’ सेवा लॉन्च करने वाली भारत की पहली राईडशेयरिंग कंपनी बन गयी है। इस सेवा द्वारा राईडर्स ऑटो एवं उसके ड्राईवर को कई घंटों तक बुक कर सकेंगे और वो अपने सफर में अनेक स्थानों पर रुक भी सकेंगे। यह सफर उन्हें बिल्कुल वैसा लगेगा, जैसे वो अपने व्यक्तिगत वाहन से सफर कर रहे हों। यह सेवा दिल्ली-एनसीआर में शुरू हो चुकी है तथा देश के 5 अन्य शहरों, बैंगलोर, मुंबई, हैदराबाद, चेन्नई और पुणे में भी उपलब्ध है।
ऑटो लाखों भारतीयों के लिए परिवहन का पसंदीदा माध्यम हैं, ऊबर को उम्मीद है कि सामान्य जीवनशैली में यात्रा सेवाएं बहाल होने के साथ वो ऐसे मोबिलिटी समाधान प्रदान कर राईडर का अनुभव बेहतर बना सकेंगे, जो नागरिकों की जरूरत के अनुरूप हों। ऑटो रेंटल राईडर्स को व्यक्तिगत अनुभव प्रदान करेंगे। राईडर्स को ज्यादा लचीलापन व सुविधा मिलेगी। वो अपने सफर में अनेक स्थानों पर रुक सकेंगे और इसके लिए उन्हें बार बार ट्रिप बुक करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।


इस सेवा द्वारा राईडर्स एक घंटे/दस किलोमीटर के लिए 149 रु. के किफायती शुल्क के साथ अपने हर घंटे का ज्यादा अच्छा उपयोग कर सकेंगे। वो प्रतिघंटे के अलग अलग पैकेज चुन सकते हैं तथा अधिकतम 8 घंटे के लिए ट्रिप बुक कर सकते हैं।
नई सेवा के बारे में नितीश भूषण, हेड ऑफ मार्केटप्लेस एंड कैटेगरीज़, ऊबर इंडिया एवं साउथ एशिया ने कहा, ‘‘हमारे शहर पुनः खुल रहे हैं। हमें मालूम है कि अब हमारे राईडर्स की जरूरतें अलग होंगी। वो प्रतिघंटे के हिसाब से राईड बुक कर एक बार में अपने सभी काम निपटाना चाहेंगे। ऑटो भारतीयों के लिए आवागमन के सबसे लोकप्रिय माध्यमों में से एक हैं। हम राईडर्स को उनके इस पसंदीदा माध्यम पर किफायती मूल्य में ज्यादा सुविधा व लचीलापन प्रदान करना चाहते हैं। भारत में यह पहली अभिनवता है और इस बात का उल्लेखनीय उदाहरण है कि हम राईडर्स व ड्राईवर्स, दोनों की सुविधा के लिए किस प्रकार टेक्नॉलॉजी का उत्तम उपयोग करते हैं। सभी राईड्स स्वास्थ्य के दिशानिर्देशों का पालन करेंगी तथा सुरक्षा के सर्वश्रेश्ठ स्तर प्रदान करेंगी।
राईडर्स व ड्राईवर्स को सुरक्षा व आराम का अनुभव देने के लिए ऊबर ने विस्तृत सुरक्षा उपाय प्रस्तुत किए हैं, जिनमें गो ऑनलाईन चेकलिस्ट, राईडर्स व ड्राईवर्स के लिए अनिवार्य मास्क पॉलिसी, ड्राईवर्स के लिए प्रि-ट्रिप मास्क वैरिफिकेशन सेल्फी, अनिवार्य ड्राईवर एजुकेशन एवं अपडेटेड कैंसेलेशन पॉलिसी शामिल है, जिसके तहत यदि राईडर या ड्राईवर में से कोई भी सुरक्षित महसूस न कर रहा हो, तो वह राईड को कैंसल कर सकता है।
इसके अलावा, ऊबर ने ड्राईवर्स के लिए सुरक्षा सप्लाई, जैसे मास्क, ग्लव, हैंड सैनिटाईज़र एवं डिसइन्फैक्टैंट स्प्रे खरीदने के लिए दुनिया में 50 मिलियन डॉलर का आवंटन किया है। भारत में टीम्स 70 से ज्यादा शहरों, जहां ऑपरेशंस शुरू हो चुके हैं, वहां काम कर रहे ड्राईवर्स को प्रोटेक्टिव उपकरण वितरित हो रहे हैं। ऊबर का नया इन-ऐप सेफ्टी फीचर ड्राईवर्स को एक निश्चित संख्या में ट्रिप्स पूरी होने के बाद अपनी पीपीई सप्लाई को पुनः भरने के लिए सूचित करेगा।
पिछले माह ही ऊबर एवं बजाज ने उद्योग की प्रथम साझेदारी कर देश में 1 लाख ऑटो में सुरक्षा स्क्रीन इंस्टॉल कीं, ताकि ड्राईवर्स व राईडर्स के बीच सोशल डिस्टैंसिंग सुनिश्चित करने के लिए एक अतिरिक्त फिज़िकल बैरियर स्थापित हो। कंपनियों ने नई दिल्ली, गुड़गांव, मुंबई, पुणे, चेन्नई, हैदराबाद, बैंगलोर आदि सहित 20 शहरों में 1 लाख ऑटो रिक्शा ड्राईवर्स को सुरक्षा किट्स वितरित कीं। इस साझेदारी का विवरण एवं ऑटो में प्लास्टिक पार्टिशन स्थापित करने की प्रक्रिया का वीडियो यहां देखा जा सकता है।